Lok Shakti.in

Nationalism Always Empower People

Article

ऋतुपर्ण दवे कभी चलूं धीरे, कभी चलूं तेज़,जीवन के दौर मे, लगी है रेस।कोई जीता मुझसे, कोई मुझसे हारा,तेरे जीवन...

समय* ॠतुपर्ण दवे कभी चलूं धीरे, कभी चलूं तेज़,जीवन के दौर मे, लगी है रेस।कोई जीता मुझसे, कोई मुझसे हारा,तेरे...