Kanpur: सर्दी हो रही जानलेवा, भीषण ठंड में हार्ट अटैक से 14 और ब्रेन अटैक से चार की मौत - Lok Shakti.in

Lok Shakti.in

Nationalism Always Empower People

Kanpur: सर्दी हो रही जानलेवा, भीषण ठंड में हार्ट अटैक से 14 और ब्रेन अटैक से चार की मौत

सांकेतिक तस्वीर

सांकेतिक तस्वीर
– फोटो : istock

ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

कानपुर में शीत लहर में दिल और दिमाग पर आफत आ गई है। शनिवार को हार्ट अटैक से 14 और ब्रेन अटैक से चार की मौत हो गई। इसके साथ ही ब्रेन अटैक के 14 रोगियों को हैलट और निजी अस्पतालों में भर्ती कराया गया है। छह रोगियों की मस्तिष्क की नसें फट गई हैं। उनका इलाज न्यूरो सर्जरी विभाग में चल रहा है।

डॉक्टरों का कहना है कि ठंड बढ़ रही है। ब्लड प्रेशर के रोगी एहतियात बरतें। कार्डियोलॉजी इंस्टीट्यूट के कंट्रोल रूम के मुताबिक शनिवार को 14 रोगियों की मौत हुई है। इनमें छह रोगियों का इलाज अस्पताल में चल रहा था। ठंड लगने के बाद रोगियों को गंभीर हालत में भर्ती किया गया था।

इसके अलावा आठ हृदय रोगी मृत अवस्था में अस्पताल लाए गए। 604 रोगियों को कार्डियोलॉजी इमरजेंसी और ओपीडी में देखा गया। इनमें गंभीर हालत में आए 54 रोगियों को भर्ती कर लिया गया। इसके अलावा ब्रेन अटैक से जाजमऊ के जावेद (65), चकेरी के जगदीश (54), चौबेपुर के रत्नेश (52) और पनकी के अशोक वर्मा (68) की मौत हुई है।

उन्हें हैलट लाया गया लेकिन अस्पताल पहुंचने के पहले ही मौत हो चुकी थी। जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज के न्यूरो साइंसेज प्रमुख डॉ. मनीष सिंह का कहना है कि ब्रेन अटैक में 40 फीसदी रोगियों की अस्पताल पहुंचने के पहले ही मौत हो जाती है। इससे ठंड से बचाव करें और दवाएं लेते रहें।

एक जनवरी से अब तक हार्ट अटैक से मौत
– अस्पताल में इलाज के दौरान मौत : 44
– मृतावस्था में अस्पताल लाए गए : 54
– हार्ट अटैक से कुल मौत : 98
– 40 वर्ष और इससे कम आयु के 18 लोगों की मौत
– 40 से 60 वर्ष के बीच के 30 लोगों की मौत
– 60 साल से अधिक आयु के 50 लोगों की मौत।

ऐसे करें बचाव
– बाहर मफलर से कान बांधकर निकलें, दस्ताने पहनें। 
– जूते-मोजे पहनकर निकलें। 
– तला-भुना, गरिष्ठ भोजन न करें। 
– शराब, धूम्रपान और दूसरे नशीले पदार्थों का सेवन न करें। 
– रात को ब्लोअर चलाकर न सोएं, कमरा बंद करने के साथ ही ब्लोअर बंद कर लें। 

जानलेवा हुई सर्दी 
01 जनवरी: हार्ट अटैक से दो, ब्रेन अटैक से एक मौत
02 जनवरी: हार्ट अटैक से 11, ब्रेन अटैक से दो मौत
03 जनवरी: हार्ट अटैक से 10, ब्रेन अटैक से तीन मौत
04 जनवरी: हार्ट अटैक से 11, ब्रेन अटैक से चार मौत
05 जनवरी: हार्ट अटैक से 22, ब्रेन अटैक से तीन मौत
06 जनवरी: हार्ट अटैक से 18 रोगियों की मौत हो हुई
07 जनवरी: हार्ट अटैक से 14, ब्रेन अटैक से चार मौत

विस्तार

कानपुर में शीत लहर में दिल और दिमाग पर आफत आ गई है। शनिवार को हार्ट अटैक से 14 और ब्रेन अटैक से चार की मौत हो गई। इसके साथ ही ब्रेन अटैक के 14 रोगियों को हैलट और निजी अस्पतालों में भर्ती कराया गया है। छह रोगियों की मस्तिष्क की नसें फट गई हैं। उनका इलाज न्यूरो सर्जरी विभाग में चल रहा है।

डॉक्टरों का कहना है कि ठंड बढ़ रही है। ब्लड प्रेशर के रोगी एहतियात बरतें। कार्डियोलॉजी इंस्टीट्यूट के कंट्रोल रूम के मुताबिक शनिवार को 14 रोगियों की मौत हुई है। इनमें छह रोगियों का इलाज अस्पताल में चल रहा था। ठंड लगने के बाद रोगियों को गंभीर हालत में भर्ती किया गया था।

इसके अलावा आठ हृदय रोगी मृत अवस्था में अस्पताल लाए गए। 604 रोगियों को कार्डियोलॉजी इमरजेंसी और ओपीडी में देखा गया। इनमें गंभीर हालत में आए 54 रोगियों को भर्ती कर लिया गया। इसके अलावा ब्रेन अटैक से जाजमऊ के जावेद (65), चकेरी के जगदीश (54), चौबेपुर के रत्नेश (52) और पनकी के अशोक वर्मा (68) की मौत हुई है।

उन्हें हैलट लाया गया लेकिन अस्पताल पहुंचने के पहले ही मौत हो चुकी थी। जीएसवीएम मेडिकल कॉलेज के न्यूरो साइंसेज प्रमुख डॉ. मनीष सिंह का कहना है कि ब्रेन अटैक में 40 फीसदी रोगियों की अस्पताल पहुंचने के पहले ही मौत हो जाती है। इससे ठंड से बचाव करें और दवाएं लेते रहें।