ताड़ के पत्तों पर धार्मिक ग्रंथ: ताड़ के पत्तों पर धार्मिक ग्रंथ - Lok Shakti.in

Lok Shakti.in

Nationalism Always Empower People

ताड़ के पत्तों पर धार्मिक ग्रंथ: ताड़ के पत्तों पर धार्मिक ग्रंथ

दक्षिण भारत में अधिकांश लेखन ताड़पत्रों पर किया जाता था। सर्वप्रथम पत्तों को तोड़कर छाया में सुखाया जाता था और फिर नर्म होने के लिए कई दिनों तक रसोई में टांग कर रखा जाता था। फिर पत्तों पर लिखने के लिए विमान बनाने के उद्देश्य से उन्हें पत्थरों पर अच्छी तरह रगड़ा जाता था। बाद में नुकीले लोहे से पत्तियों में छेद कर लिखने का काम किया जाने लगा। बाद में उस पर कार्बन स्याही रगड़ी गई। इसने छेद को कार्बन से भर दिया और इस प्रकार लेखन दिखाई देने लगा। पत्तियों को कीड़ों से बचाने और कार्बन न छोड़ने के भी प्रयास किए गए।

ताड़ के पत्तों पर पाई जाने वाली पांडुलिपियां 8वीं सदी से भी पुरानी हैं। 1700-1800 में ब्रिटिश काल के अधिकांश अभिलेख ताड़ के पत्तों पर ही मिलते हैं।

दैनिक जागरण में प्रकाशित एक लेख के अनुसार पुरातत्व विभाग की मुहर लगे ताड़ के पत्ते पर लिखी गई पांडुलिपि ‘श्री सूत्र’ करीब 475 साल पुरानी है। इसी प्रकार ताड़ के पत्तों पर सुई की नोंक से लिखा हुआ तमिल भाषा का धर्मशास्त्र लगभग 600 वर्ष पुराना है। कन्नड़ में लिखी गई बौद्ध कथाएँ विस्मित करती हैं, जबकि उनके खजाने में सनातन, धर्मशास्त्र, जैन शास्त्र, ज्योतिष और आयुर्वेद से संबंधित ताड़ के पत्तों पर सजी पांडुलिपियों का अद्भुत संसार है। इन प्राचीन धरोहरों में अलंकृत ताड़ के पत्तों पर लिखे कुछ ग्रंथ अकथनीय हैं और उन्हें समझना और समझाना भी एक बहुत बड़ा काम है।

News18 में छपे एक लेख के मुताबिक, झारखंड के घाटशिला में ताड़ के पत्तों पर लिखा हुआ ऐसा ही एक 200 साल पुराना दस्तावेज है. घाटशिला में ताड़ के पत्तों पर लिखा प्राचीन ग्रंथ महाभारत आज भी सुरक्षित है। ताड़ के पत्तों पर लिखी महाभारत की कहानी मूल रूप से उड़िया भाषा में है, जिसे इस पुरोहित परिवार ने बहुत संभाल कर रखा है। इन हस्तरेखा पत्रों पर उकेरी गई भाषा को आज भी आसानी से पढ़ा जा सकता है। 200 साल पुराने इस ग्रंथ को पुजारी अशित पंडा के परिवार ने पांच पीढ़ियों तक सहेज कर रखा है। आशित बताते हैं कि इस ग्रंथ को प्रतिदिन पूजा के बाद ही पढ़ा जाता है।

जगन्नाथ पुरी से लाया गया था यह निबंध

घाटशिला के बहरागोड़ा प्रखंड के माहुलडांगरी गांव के पुजारी अशित पंडा के परिवार ने 200 साल पहले ताड़ के पत्ते पर लिखी महाभारत को सहेज कर रखा है. अशित पांडा ने बताया कि उनका परिवार खास मौकों पर लोगों को महाभारत की कहानी सुनाता है. उन्होंने कहा कि उनके पूर्वज जगन्नाथपुरी धाम से ताड़ के पत्तों पर लिखा महाभारत ग्रंथ लेकर आए थे। यह ग्रन्थ कई जंगली पत्तों और फलों के रस से तैयार काली स्याही से ताड़ के पत्ते पर लिखा गया है। 200 साल बाद भी इसकी लिखावट जस की तस है। यह पूरी तरह उड़िया भाषा में है। आज भी इस पुजारी के परिवार के पास यह पूरी तरह सुरक्षित है।