UP Weather Update: कानपुर में चार दिन बाद निकला सूरज पर नहीं दे पाया ठंड से राहत, मौसम विभाग ने दी ये चेतावनी - Lok Shakti.in

Lok Shakti.in

Nationalism Always Empower People

UP Weather Update: कानपुर में चार दिन बाद निकला सूरज पर नहीं दे पाया ठंड से राहत, मौसम विभाग ने दी ये चेतावनी

कानपुर में ठंड का कहर

कानपुर में पिछले चार दिन से कोहरे के आगोश में छुपा सूरज गुरुवार को आसमान में दिखाई दिया। सुबह करीब दस बजे के बाद सूरज के दिखने पर लोगों ने राहत की सांस ली। हालांकि सूरज के दिखने के बावजूद लोगों को ठंड से राहत नहीं मिल सकी। दिनभर ठंडी हवा की वजह से ठिठुरन की वजह से लोग कंपकपाते रहे।

धूप की वजह से शहर के अधिकतम तापमान में बुधवार की तुलना में दो डिग्री सेल्सियस की बढ़ोतरी हुई। हालांकि 3.1 किलोमीटर प्रतिघंटा की रफ्तार से चलने वाली ठंडी हवाओं ने ठिठुरने पर मजबूर रखा। वहीं, न्यूनतम तापमान 4.4 डिग्री सेल्सियस दर्ज किया गया। भारतीय मौसम विभाग के पूर्वानुमान के अनुसार अगले तीन दिन राहत के आसान नहीं है। विभाग का कहना है कि अगले पांच दिन आसमान साफ रहने की वजह बारिश के आसार नहीं है। साथ ही 8 जनवरी तक शीत लहर और कोहरे की वजह से ठंड का सितम जारी रहेगा।

शीत लहर से निपटने की तैयारियों को लेकर डीएम की समीक्षा

कलक्ट्रेट सभागार में जिलाधिकारी विशाख जी. ने बैठक की। सभी एसीएम, नगर निगम के जोनल अभियंताओं को शाम को भ्रमण कर असहाय, बेसहारा एवं निराश्रित लोगों को शेल्टर होम पहुंचाने और कंबल वितरण कराने के निर्देश दिए।

इसके अलावा अलग से गठित 15 टीमों को सिविल डिफेंस वार्डन द्वारा चिह्नित स्थलों पर जरूरत के अनुसार अलाव जलाने की व्यवस्था कराने, शेल्टर होम में ठहरने के लिए आधार कार्ड अनिवार्य न करने को कहा। वहीं, ग्रामीण क्षेत्रों में एडीएम को रेलवे स्टेशन, नगर पालिका, नगर पंचायत के चौराहों एवं घाटों में भ्रमण कर अलाव व कंबल मुहैया कराने को कहा।

इन बातों का रखें ध्यान

– पुराने रोगी, कोरोना से ठीक हुए लोग ठंड में बाहर न निकलें।

– नसों के रोगी गर्म कपड़ा लपेटकर शरीर को गर्म रखें।

– हाई ब्लड प्रेशर के रोगी जांच कराकर दवा की डोज दुरुस्त करा लें।

– ब्लड प्रेशर न बढ़ने दें, इससे ब्रेन और हार्टअटैक पड़ सकता है।

– दमा और अस्थमा के रोगी ठंड से बचें, दवा की डोज दुरुस्त कराएं।

– गर्म कमरे से अचानक बाहर ठंड में न निकलें।

– बाहर जाना हो तो पहले सामान्य तापमान में रुकें।

– छोटे बच्चों को गर्म कपड़े से ढंके रहें, माताएं शिशुओं को कंगारू केयर दें।