इटावा में 4 और कई जिलों में 5 डिग्री पहुंचा न्यूनतम पारा - Lok Shakti.in

Lok Shakti.in

Nationalism Always Empower People

इटावा में 4 और कई जिलों में 5 डिग्री पहुंचा न्यूनतम पारा

ठंड का कहर

कानपुर और आसपास के जिलों में कड़ाके की ठंड जारी है। मंगलवार को ठंड के तेवर और कड़े हो गए। इटावा में चार डिग्री समेत अधिकतर जिलों में न्यूनतम पारा लुढ़ककर पांच डिग्री तक पहुंच गया। फतेहपुर में पांच डिग्री न्यूनतम तापमान में 24 घंटे के दौरान एक मासूम समेत दो लोगों की मौत हो गई। कन्नौज में एक मासूम की जान ठंड से चली गई।

बांदा में ठंड लगने से बीमार हुए नौ लोगों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। औरैया में मंगलवार को सुबह से ही शीतलहर के चलने से पूरा दिन ठंडक रही। पारा लुढ़क कर पांच डिग्री पर पहुंच गया।

मौसम की स्थिति बिगड़ते देख जिला प्रशासन ने शाम होते-होते ठंड से बचाव के लिए एडवाइजरी जारी की। बांदा में पिछले पांच वर्ष में पहली बार तीन जनवरी को न्यूनतम पारा लुढ़क कर सात डिग्री पर पहुंचा है। कृषि विश्वविद्यालय के मौसम वैज्ञानिक डॉ. दिनेश शाह ने बताया कि अगले चार दिन तक ठंड से राहत नहीं रहेगी।

पश्चिमी विक्षोभ के चलते ठंड बढ़ी है। न्यूनतम तापमान एक-दो डिग्री और नीचे लुढ़कने के आसार हैं। अधिकतम तापमान में भी कमी आएगी। इटावा में मंगलवार को न्यूनतम पारा एक डिग्री सेल्सियस लुढ़ककर चार डिग्री और अधिकतम तापमान 18 डिग्री सेल्सियस पर रहा। सुबह घने कोहरे के साथ ही शुरुआत हुई। वन्यजीवों का भी ठंड से बुरा हाल रहा। जालौन में न्यूनतम तापमान पांच डिग्री, महोबा, कन्नौज में 5.5 डिग्री, फर्रुखाबाद, हरदोई, हमीरपुर और उन्नाव में न्यूनतम तापमान छह डिग्री सेल्सियस रहा।

कानपुर और आसपास के जिलों में कड़ाके की ठंड जारी है। मंगलवार को ठंड के तेवर और कड़े हो गए। इटावा में चार डिग्री समेत अधिकतर जिलों में न्यूनतम पारा लुढ़ककर पांच डिग्री तक पहुंच गया। फतेहपुर में पांच डिग्री न्यूनतम तापमान में 24 घंटे के दौरान एक मासूम समेत दो लोगों की मौत हो गई। कन्नौज में एक मासूम की जान ठंड से चली गई।

बांदा में ठंड लगने से बीमार हुए नौ लोगों को जिला अस्पताल में भर्ती कराया गया है। औरैया में मंगलवार को सुबह से ही शीतलहर के चलने से पूरा दिन ठंडक रही। पारा लुढ़क कर पांच डिग्री पर पहुंच गया।

मौसम की स्थिति बिगड़ते देख जिला प्रशासन ने शाम होते-होते ठंड से बचाव के लिए एडवाइजरी जारी की। बांदा में पिछले पांच वर्ष में पहली बार तीन जनवरी को न्यूनतम पारा लुढ़क कर सात डिग्री पर पहुंचा है। कृषि विश्वविद्यालय के मौसम वैज्ञानिक डॉ. दिनेश शाह ने बताया कि अगले चार दिन तक ठंड से राहत नहीं रहेगी।