सभी दलों के सदस्य संसद की स्थायी समिति की बैठकों से दूर रहते हैं: - Lok Shakti.in

Lok Shakti.in

Nationalism Always Empower People

सभी दलों के सदस्य संसद की स्थायी समिति की बैठकों से दूर रहते हैं:

6 9

लोकसभा की वेबसाइट पर मौजूद आंकड़ों के मुताबिक, 2022-23 के दौरान संसद में पेश किए जाने वाले विधेयकों पर विचार-विमर्श करने के लिए सितंबर में पुनर्गठित होने के बाद विभिन्न दलों के सांसद संसदीय स्थायी समिति की बैठकों में शामिल नहीं हुए।

निचले सदन की 13 स्थायी समितियों के पुनर्गठन के बाद, वर्ष 2022-23 के दौरान विचार किए जाने वाले विषयों के चयन के लिए अक्टूबर से नवंबर 2022 तक 22 बैठकें हुईं, जिसमें औसतन केवल 16 सदस्य ही मौजूद थे, जैसा कि आंकड़ों से पता चलता है।

संसद की स्थायी समिति में लोकसभा और राज्यसभा के 31 सदस्य होते हैं जिनमें 21 निचले सदन से और 10 उच्च सदन से होते हैं।

लोकसभा की एक दर्जन से अधिक स्थायी समितियों की बैठकों में औसतन 40 प्रतिशत से अधिक सदस्य अनुपस्थित रहे, जिनमें कृषि मंत्रालय, खाद्य और उपभोक्ता मामले, विदेश, वाणिज्य, आवास और शहरी मामले, सामाजिक मंत्रालय शामिल हैं। न्याय और अधिकारिता, यह दिखाया।

समितियों में सदस्यों की संख्या सबसे अधिक होने के कारण भाजपा की अनुपस्थिति भी सबसे अधिक रही।

इन समितियों की बैठकों से अनुपस्थित रहने वाले उल्लेखनीय सदस्य मनमोहन सिंह, राहुल गांधी, पी चिदंबरम, मनीष तिवारी, दीपेंद्र हुड्डा (सभी कांग्रेस) थे; जया बच्चन (सपा); हेमा मालिनी, मेनका गांधी, प्रज्ञा सिंह ठाकुर, राजीव प्रताप रूडी, प्रवेश साहिब सिंह वर्मा, किरीट प्रेमजीभाई सोलंकी (सभी बीजेपी); इलैया राजा (मनोनीत); हरभजन सिंह और संजय सिंह (आप दोनों); सिमरनजीत सिंह मान (अकाली दल अमृतसर) आदि।

अकाली दल की हरसिमरत कौर बादल, तृणमूल कांग्रेस के अभिषेक बनर्जी और कल्याण बनर्जी, निर्दलीय कपिल सिब्बल और नवनीत राणा, राजद की मीसा भारती भी समिति की बैठकों से अनुपस्थित रहीं।

संसदीय समितियों में भाजपा सांसदों की उपस्थिति सुनिश्चित करने के लिए प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी इस मुद्दे को उठाते रहे हैं।

आंकड़ों के मुताबिक 10 अक्टूबर को हुई बैठक में कृषि, पशुपालन और खाद्य प्रसंस्करण मंत्रालय से जुड़ी 31 सदस्यीय स्थायी समिति के सिर्फ 12 सदस्य मौजूद थे.

जहां 28 अक्टूबर को वित्त मंत्रालय से जुड़ी स्थायी समिति की बैठक में 31 में से केवल 17 सदस्य शामिल हुए, वहीं 4 नवंबर को हुई इसी समिति की बैठक में इक्कीस सदस्य शामिल हुए।

19 अक्टूबर को विदेश मंत्रालय से जुड़ी स्थायी समिति की बैठक में 10 नवंबर को ‘वैश्विक आतंकवाद का मुकाबला’ विषय पर हुई बैठक में सिर्फ 14 सदस्य मौजूद थे और 15 सदस्य ही मौजूद थे.

खाद्य और उपभोक्ता मामलों के मंत्रालय से जुड़ी 18 अक्टूबर को हुई बैठक में केवल 15 सदस्यों ने भाग लिया।

आंकड़ों के मुताबिक वाणिज्य मंत्रालय से जुड़ी समिति की 17 अक्टूबर को हुई बैठक में सिर्फ 14 सदस्य शामिल हुए और 28 अक्टूबर को हुई इसी समिति की बैठक में सिर्फ 15 सदस्य ही शामिल हुए.

17 अक्टूबर को सामाजिक न्याय और अधिकारिता पर स्थायी समिति की बैठक में ग्यारह सदस्यों ने भाग लिया।

रेलवे पर 20 अक्टूबर को हुई बैठक में चौबीस सदस्य मौजूद थे.