Editorial:पूरे विश्व में अपनी धाक जमाने के लिए तैयार है भारतीय रुपया! - Lok Shakti.in

Lok Shakti.in

Nationalism Always Empower People

Editorial:पूरे विश्व में अपनी धाक जमाने के लिए तैयार है भारतीय रुपया!

dAJD0GIK

11-11-2022

फिर इंसान या फिर किसी देश की क्या ही औकात है? घमंड एक ऐसी दीमक है जो किसी को भी धीरे-धीरे बर्बाद कर सकती है। अब घमंड की बात हो और अमेरिका का नाम न आए, ऐसा तो हो नहीं सकता। अमेरिका कथित महाशक्ति बनकर पूरी दुनिया को अपने हिसाब से चलाना चाहता हैं। परंतु आज उसी महाशक्ति का प्रभाव धीरे-धीरे कर कम होता चला जा रहा है। जिस डॉलर के दम पर अमेरिका इतना इतराता है, उसकी काट भी अब भारत निकालता नजर आ रहा है। भारतीय रुपया ने डॉलर की लंका लगाने की तैयारी पूरी कर ली है। इस लेख में हम जानेंगे कि कैसे कैसे भारतीय रुपया अब रूस से भी आगे पूरे विश्व में अपनी धाक जमाने जा रहा हैं।

दरअसल, देखा जाये तो रूस और यूक्रेन के बीच युद्ध ने दुनिया को कई सबक सिखाए हैं। जिसमें एक सबक यह भी है कि हमें किसी भी चीज के लिए एक देश पर पूरी तरह से निर्भर नहीं होना चाहिए। अभी तक किसी का काम भले ही डॉलर के बिना न चलता है। अंतरराष्ट्रीय व्यापार में हर चीज खरीदने के लिए डॉलर की आवश्यकता पड़ती है। परंतु अब कई देश मिलकर डॉलर का विकल्प तलाशने की तैयारी में जुटे हुए है। इनमें भारत और रूस भी शामिल हैं। भारत और रूस स्वयं को डॉलर मुक्त बनाने के लिए आपस में रुपये और रुबल में निरंतर व्यापार करने के प्रयास कर रहे हैं।इस संबंध में कदम आगे बढ़ाते हुए कुछ समय पूर्व ही यूको बैंक और येस बैंक ने रूस के कुछ बैंको के साथ साझेदारी की है। इसके तहत दोनों देशों के बीच व्यापार के लिए रुपये में ही भुगतान किया जाने लगा। परंतु भारत की योजना केवल यही तक सीमित रहने की नहीं है। रूस को केवल शुरुआत है, इसके साथ ही भारतीय रुपया को वैश्विक स्तर पर मजबूत करने के लिए कदम आगे बढ़ाये जा रहे हैं।

भारतीय रिजर्व बैंक (RBI) तो पहले ही वैश्विक कारोबार रुपए में करने का ऐलान कर चुका है। ताजा जानकारी के अनुसार भारत कई छोटे देशों के साथ रुपयों के साथ द्विपक्षीय व्यापार करने के लिए वार्तालाप कर रहा है। देखा जाये तो भारत की प्रमुख भुगतान प्रणाली NPI द्वारा निर्मित UPI को दुनियाभर से मान्यता मिल रही है, जिसके बाद भारत अपनी स्वदेशी भुगतान विधियों का भी अंतर्राष्ट्रीयकरण करने के प्रयासों को सफल बनाना चाहता है।इकोनॉमिक टाइम्स ने भारतीय आर्थिक व्यापार संगठन (IETO) के अध्यक्ष आसिफ इकबाल के हवाले से ये बात कही है कि “हम छोटे देशों के एक समूह के साथ जुड़ रहे हैं, जो समर्पित रुपया खाते के माध्यम से द्विपक्षीय व्यापार में रुचि ले सकते हैं।” उन्होंने आगे कहा- “हम द्विपक्षीय वार्ता को प्रारंभ करने के लिए मदद कर रहे हैं, जिसके बाद हम NPCI से जुड़े UPI भुगतान प्रणाली के लिए एक पिच बनाएंगे। इस तरह के छोटे कदमों से रुपये को गैर-डॉलर द्विपक्षीय व्यापारों के माध्यम से धीरे-धीरे अंतरराष्ट्रीय दबदबा हासिल करने में मदद मिलेगी।मूलतः रुपए को वैश्विक मुद्रा बनाने की शुरुआत वर्ष 2014 में मोदी सरकार के आने के बाद से हुई है। मोदी सरकार की सरल व्यापारिक नीति और सुलभ ऑनलाइन भुगतान व्यवस्था ने रुपए को एक नयी पहचान दिलायी है। वैसे तो हम नेपाल, भूटान एवं बांग्लादेश के साथ द्विपक्षीय समझौते के तहत रुपये एवं संबंधित देशों की मुद्रा में व्यापार करते थे किंतु रुपए को वैश्विक मुद्रा  बनाने के क्रम में रूस-यूक्रेन युद्ध मील का पत्थर साबित हुआ।

देखा जाये तो डॉलर के वर्चस्व को खत्म करने और रुपये को मजबूर करने के लिए भारत द्वारा उठाया जा रहा यह कदम छोटा नहीं है। कहते हैं न कि छोटे-छोटे प्रयासों से ही बड़ी सफलता मिलती हैं। ऐसे ही एक न एक दिन भारत अपने प्रयासों में सफल अवश्य होगा। वो दिन दूर नहीं आयेगा जब भारतीय रुपया, डॉलर का काल बन जायेगा।