Lok Shakti.in

Nationalism Always Empower People

TVNL में कोयला खत्म, कभी भी बंद हो सकता है उत्पादन!

TVNL में कोयला खत्म, कभी बंद हो सकता है उत्पादन!

Ranchi : टीवीएनएल (TVNL) के ललपनियां स्थित तेनुघाट थर्मल पावर स्टेशन से कभी भी बिजली ठप हो सकती है. राज्य सरकार की एकमात्र विद्युत उत्पादक कंपनी टीवीएनएल को सीसीएल ने कोयला आपूर्ति बंद कर दी है. बताया जा रहा है कि बारिश की वजह से शुक्रवार को आपूर्ति नहीं की गयी है. टीवीएनएल के पास एक दिन का स्टॉक है वह भी समाप्त हो गया है. यदि शनिवार को कोयले की आपूर्ति नहीं हुई तो एक यूनिट को बंद करना पड़ेगा. जिसके कारण राज्य में एक बार फिर बिजली संकट गहरा जायेगी. पढ़ें – WazirX के डायरेक्टर पर ईडी का शिकंजा, 64.67 करोड़ के बैंक अकाउंट को किया फ्रीज

इसे भी पढ़ें- उपराष्ट्रपति चुनाव : वोटिंग आज, जगदीप धनखड़ और मार्गरेट अल्वा के बीच है मुकाबला

झारखंड में प्रतिदिन की मांग 1600 से 1800 मेगावाट 

लगातार को पढ़ने और बेहतर अनुभव के लिए डाउनलोड करें एंड्रॉयड ऐप। ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे

बता दें कि झारखंड मे टीवीएनएल के अलावा आधुनिक पावर, इनलैंड पावर और सेंट्रल पूल से बिजली ली जाती है. टीवीएनएल की 210 मेगा वाट की दो यूनिटों की कुल उत्पादन क्षमता 420 मेगावाट है. एक यूनिट से औसतन 170 मेगावाट उत्पादन होता है. झारखंड में प्रतिदिन की मांग 1600 से 1800 मेगावाट की है. टीवीएनएल प्रबंधन द्वारा इस मुद्दे की जानकारी राज्य सरकार के ऊर्जा विभाग को दी गयी है. इसके बाद ऊर्जा विभाग के प्रधान सचिव अविनाश कुमार ने सीसीएल सीएमडी से बात की. जहां बताया गया कि बारिश की वजह से कोयले के उत्पादन पर असर पड़ा है. जिसके कारण आपूर्ति नहीं की गयी है. शनिवार को संभावना है कि एक रैक कोयला भेजा जाये.

इसे भी पढ़ें- ED का दावा : IAS पूजा के पास थे दो PAN  नंबर, शादी के बाद पति के खाते में आये करोड़ों रुपये, पति ने मनी लाउंड्रिंग में की मदद

प्रतिदिन तीन से चार रैक कोयले की जरूरत 

बता दें कि टीवीएनएल को दोनों यूनिट चलाने के लिए प्रतिदिन तीन से चार रैक कोयले की जरूरत पड़ती है. टीवीएनएल के एमडी अनिल शर्मा ने बताया कि यह सही बात है कि कोयले का स्टॉक पूरी तरह समाप्त हो गया है. जब तक कोयला नहीं मिलता है तब तक कम से कम एक यूनिट को बंद करना पड़ सकता है. शनिवार को यदि कोयले की आपूर्ति हो गयी तो इस पर पुनर्विचार किया जायेगा.

इसे भी पढ़ें- स्वास्थ्य विभाग के आदेश को डॉक्टरों ने बताया तुगलकी फरमान, ले सकते हैं कड़ा फैसला

आप डेली हंट ऐप के जरिए भी हमारी खबरें पढ़ सकते हैं। इसके लिए डेलीहंट एप पर जाएं और lagatar.in को फॉलो करें। डेलीहंट ऐप पे हमें फॉलो करने के लिए क्लिक करें।

%d bloggers like this: