Lok Shakti.in

Nationalism Always Empower People

झारखंड : प्लस टू स्कूलों में शिक्षकों की वैकेंसी आने से पहले राजभवन के सामने धरना

झारखंड : प्लस टू स्कूलों में शिक्षकों की वैकेंसी आने से पहले राजभवन के सामने धरना

Ranchi : झारखंड के प्लस टू स्कूलों में शिक्षकों की होनेवाली बहाली में शामिल किये जाने की मांग को लेकर बुधवार को राजभवन के सामने झारखंड राजनीति विभाग संघ के बैनर तले राजनीति विज्ञान के छात्रों ने धरना दिया. इनकी मांग है कि इनकी बहाली के लिए भी झारखंड कर्मचारी चयन आयोग (JSSC) की ओर से वैकेंसी निकाला जाये.

11 विषयों के लिए ही शिक्षक बहाल होने हैं

मालूम हो कि झारखंड सरकार द्वारा प्लस टू स्कूलों में शिक्षकों की नियुक्ति की जा रही है. फिलहाल झारखंड के प्लस टू स्कूलों में 11 विषयों के लिए शिक्षक बहाल होने हैं. इसके लिए झारखंड कर्मचारी चयन आयोग (JSSC) को अधियाचना भेज दी गयी है. इसमें राजनीति विज्ञान, समाज शास्त्र, क्षेत्रीय भाषा, उर्दू, दर्शनशास्त्र और कंप्यूटर साइंस जैसे विषयों को शामिल नहीं किया गया है. इसी के विरोध में धरना दिया जा रहा है. धरना दे रहे अभ्यर्थियों ने बताया कि हमलोग इस सिलसिले में शिक्षा मंत्री जगरनाथ महतो, आजसू के केंद्रीय अध्यक्ष सुदेश महतो से मिल कर अपनी बात रख चुके हैं. शिक्षा सचिव के नाम आवेदन भी दिया है. बताया गया कि इसके लिए जनहित याचिका भी दायर की गयी है.

किन विषयों में कितनी बहाली, कौन से विषय शामिल नहीं

प्लस टू स्कूलों में शिक्षकों की फिलहाल इतिहास के 243, भूगोल के 218, अर्थशास्त्र के 222, भौतिकी के 395, जीवविज्ञान के 291, कॉमर्स के 289, गणित के 343, संस्कृत के 249, अंग्रेजी के 311 , हिंदी के 217  और रसायन विज्ञान के 342 पदों पर बहाली होनी है. वहीं नियुक्ति प्रक्रिया में राजनीति विज्ञान, समाज शास्त्र, क्षेत्रीय भाषा, उर्दू, दर्शनशास्त्र और कंप्यूटर साइंस जैसे विषयों के अभ्यर्थियों को बहाली में शामिल नहीं किया गया है.

लगातार को पढ़ने और बेहतर अनुभव के लिए डाउनलोड करें एंड्रॉयड ऐप। ऐप डाउनलोड करने के लिए क्लिक करे

इसे भी पढ़ें – 4 माह का वेतन लेकर भाग गई सीडीसी कंपनी, बेरोजगार हुये सुपरवाइजरों के सामने आर्थिक संकट

 

आप डेली हंट ऐप के जरिए भी हमारी खबरें पढ़ सकते हैं। इसके लिए डेलीहंट एप पर जाएं और lagatar.in को फॉलो करें। डेलीहंट ऐप पे हमें फॉलो करने के लिए क्लिक करें।

%d bloggers like this: