Lok Shakti.in

Nationalism Always Empower People

कोऑपरेटिव बैंक लिमिटेड  की 13 नई शाखाओं का भी किया उद्घाटन

बदलते परिदृश्य में सहकारी बैंकिंग विषयक सेमिनार का शुभारंभ उत्तर प्रदेश को-आपरेटिव बैंक के प्रशिक्षण संस्थान में राज्यमंत्री (स्वतंत्र प्रभार) सहकारिता विभाग श्री जेपीएस राठौर द्वारा दीप प्रज्ज्वलित कर किया गया।
      इस अवसर पर सहकारिता मंत्री ने कहा कि प्रदेश में मुख्यमंत्री श्री योगी आदित्यनाथ जी के नेतृत्व में तेजी के साथ विकास कार्य हो रहे हैं। सहकारिता विभाग द्वारा भी अच्छा कार्य किए जाने के प्रयास किए जा रहे हैं। उन्होंने कहा कि पूर्व की सरकारों में सहकारिता विभाग को अपना व्यक्तिगत खजाना समझा जाता था तथा गलत ढंग से नियुक्तियां की जाती थी और सहकारी बैंकों को अपनी निजी संपत्ति की तरह उपयोग किया जाता था ।उन्होंने कहा कि हमारी बैंकों में जो पैसा है वह गरीब किसानों का है और हम यह पैसा किसानों को सूद समेत वापस करना चाहते हैं। इसके लिए आज यहां सहकारी बैंक के अध्यक्षों तथा विभाग के अधिकारियों के साथ चर्चा की जा रही है। श्री राठौर ने कहा कि सहकारी बैंक निजी बैंकों तथा राष्ट्रीयकृत बैंकों के साथ कैसे प्रतिस्पर्धा करके आगे बढ़ सकते हैं इस पर भी मंथन किया जा रहा है। सहकारिता मंत्री द्वारा सरकारी बैंकों में कुशल प्रबंधन, ऋण एवं वसूली प्रबंधन हेतु रणनीति तैयार कर मुख्यमंत्री जी की अपेक्षानुसार  समयबद्ध लक्ष्य को प्राप्त करने हेतु निर्देश दिए गए। इस अवसर पर श्री राठौर द्वारा भारत सरकार की नाबार्ड के माध्यम से एग्रीकल्चर इंफ्रास्ट्रक्चर फंड (एआईएफ) योजनान्तर्गत नाबार्ड की वित्तीय सहायता से प्रदेश के विभिन्न जनपदों के प्रारंभिक कृषि ऋण सहकारी समितियों (पैक्स) में निर्मित हो चुके 33 गोदामों का लोकार्पण तथा कोऑपरेटिव बैंक लिमिटेड की 13 नई शाखाओं का उद्घाटन किया गया ।
     सहकारिता विभाग के प्रमुख सचिव श्री बी0एल0 मीणा ने बताया कि ऐसी समितियां जिनके पास मार्जिन मनी की धनराशि नहीं थी उन्हें भी शासन द्वारा चार लाख रुपये प्रति समिति की दर से मार्जिन मनी भी स्वीकृत कर दी गई है। उन्होंने बताया गया कि शीर्ष बैंक के साथ-साथ प्रदेश के सभी 50 जिला सहकारी बैंक सीबीएस प्लेटफार्म पर यूपीसीबी के आईएफसी कोड के साथ आरटीजीएस/एनईएफटी प्लेटफार्म से जुड़े हुए हैं इसलिए सहकारी क्षेत्र में डिजिटल टेक्नोलॉजी का अधिकतम उपयोग करते हुए सरकार की योजनाओं को किसानों तक पहुंचायें।इस अवसर पर प्रमुख सचिव द्वारा सहकारिता द्वारा जिला सहकारी बैंकों से इंटरनेट मोबाइल बैंकिंग सुविधा को शीघ्र प्रारंभ किए जाने की अपेक्षा की गई है।
      सेमिनार में विभिन्न अधिकारियों तथा जिला सहकारी बैंक के अध्यक्षों द्वारा तेलंगाना राज्य सहकारी बैंक में किए गए अध्ययन से संबंधित प्रस्तुतिकरण किया गया तथा अपने सुझाव प्रस्तुत किए गए। इस अवसर पर अपर आयुक्त एवं अपर निबंधक, सहकारिता श्रीमती बी. चंद्रकला द्वारा तेलंगाना स्टडी एवं उत्तर प्रदेश में उसके क्रियान्वयन पर प्रस्तुतिकरण किया गया।उ0 प्र0 कोऑपरेटिव बैंक के अध्यक्ष श्री तेजवीर सिंह, एलडीबी के अध्यक्ष श्री संतराज यादव एवं विभिन्न जिला सहकारी बैंकों के अध्यक्षों द्वारा भी सहकारी बैंकों के विकास हेतु अपने सुझाव प्रस्तुत किए गए।
   सेमिनार का संचालन अपर आयुक्त एवं अपर निबंधक सहकारिता, श्री आर0के0 कुलश्रेष्ठ द्वारा किया गया।

%d bloggers like this: