सीमावर्ती राज्यों से धान का अवैध परिवहन रोकने,  मुख्यमंत्री के निर्देश पर बड़ी कार्रवाई

राजनांदगांव जिले में दो वाहन धान सहित जब्त

सरगुजा और कबीरधाम जिले में की गई जब्ती की कार्रवाई

रायपुर, मुख्यमंत्री श्री भूपेश बघेल के निर्देशानुसार पड़ोसी राज्यों से धान के अवैध परिवहन को रोकने के प्रदेश के सीमावर्ती जिलों में जिला प्रशासन द्वारा चाकचौबंद व्यवस्था की गई है। धान के अवैध परिवहन और अवैध भंडारण पाए जाने पर धान और वाहन जब्त करने की कठोर कार्रवाई प्रशासन द्वारा की जा रही है। सरगुजा, कबीरधाम और राजनांदगांव जिलों में धान के अवैध परिवहन और अवैध भंडारण पर सख्त कार्रवाई की जा रही है। सरगुजा जिले में अब तक अवैध धान के प्रकरणों में 1290 क्विंटल धान और कबीरधाम जिले में 754 कट्टा धान जब्त किया गया है। राजनांदगांव जिले में कार्रवाई करते हुए दो वाहनों को धान सहित जब्त कर लिया गया है। उल्लेखनीय है कि मुख्य सचिव श्री आर.पी. मंडल ने कमिश्नर एवं जिला कलेक्टरों को धान का अवैध परिवहन रोकने के लिए सख्त कार्रवाई करने के निर्देश दिए थे।  

प्रदेश के सीमावर्ती जिलों में पड़ोसी राज्यों से आने वाले धान के अवैध परिवहन को रोकने के लिए जिला प्रशासन द्वारा जांच टीम गठित की गई है और चेकपोस्ट स्थापित किए गए है। सरगुजा जिले में आज एक दिन में अवैध धान के पांच प्रकरण दर्ज कर 1266 क्विंटल धान जब्त की गई है। कबीरधाम जिले के बोडला और पंडरिया में धान के अवैध परिवहन और कोचियों पर कार्रवाई की गई है। कबीरधाम जिले के चिल्फी में राष्ट्रीय राजमार्ग से आने वाले वाहनों की औचक जांच की गई। मध्यप्रदेश के जबलपुर जिले के सिहोरा से रायपुर जिले के तिल्दा लाए जा रहे 396 बोरी धान को जब्त कर धान के अवैध परिवहन का प्रकरण दर्ज किया गया। 

कबीरधाम जिले में ही पंडरिया अनुविभाग के तीन गांव पाढ़ी, गांगपुर और कामठी में धान का अवैध भंडारण करने वाले कोचियों पर कार्रवाई करते हुए अवैध रूप भंडारित 358 कट्टा धान जब्त किया गया। ग्राम पाढ़ी में 120 बोरा धान, ग्राम गांगपुर में एक दुकान के निरीक्षण के दौरान 200 बोरा धान कट्टा और ग्राम कामठी में एक किराना दुकान से 38 बोरी धान जब्त किया गया। राजनांदगांव जिले के ग्राम खैरबना में धान का अवैध परिवहन कर रहे दो वाहनों को 133 कट्टा धान सहित जब्त कर थाना बागनदी को सुपुर्द किया गया।

Leave comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *.

Lok Shakti

FREE
VIEW