Lok Shakti.in

Nationalism Always Empower People

यूपी चुनाव 2022: बसपा से इस्तीफा देने के बाद आज भाजपा में शामिल होंगे पूर्व मंत्री रामवीर उपाध्याय

रामवीर उपाध्याय

हाथरस के सादाबाद से विधायक और बसपा सरकार में ऊर्जा मंत्री रहे रामवीर उपाध्याय ने शुक्रवार को बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया। वह बसपा से निष्कासित होने के बाद भाजपा से अपरोक्ष रूप से जुड़े हुए थे। उन्होंने हाथरस में पूर्व सांसद सीमा उपाध्याय को भाजपा के सहयोग से जिला पंचायत अध्यक्ष बनवाया था।
मकर संक्रांति पर सूर्य की दिशा बदली तो रामवीर उपाध्याय ने भी राजनीति में अपनी दिशा बदल ली। शनिवार सुबह 11 बजे वह आगरा के शास्त्रीपुरम स्थित आवास पर भाजपा की औपचारिक रूप से सदस्यता ग्रहण करेंगे।
2009 में फतेहपुर सीकरी से सांसद बनी थीं सीमा उपाध्याय
बसपा सरकार में मुखर ब्राहमण चेहरा और ऊर्जा मंत्री रहे रामवीर उपाध्याय ने हाथरस को छोड़कर आगरा में लोकसभा चुनाव के दौरान फतेहपुर सीकरी से दांव लगाया। फतेहपुर सीकरी से उन्होंने पत्नी सीमा उपाध्याय को सांसद बनवाया।

सीमा उपाध्याय ने तब राज बब्बर को हराया था। उसी दौरान रामवीर उपाध्याय ने शास्त्रीपुरम में घर बनवाया, तभी से उनका आगरा से नाता बना हुआ है। अब 25 साल तक बसपा में रहने के बाद जब इस्तीफा दिया तो वह नई पारी की शुरूआत भी आगरा से ही कर रहे हैं।

हाथरस के सादाबाद से विधायक और बसपा सरकार में ऊर्जा मंत्री रहे रामवीर उपाध्याय ने शुक्रवार को बहुजन समाज पार्टी (बसपा) की सदस्यता से इस्तीफा दे दिया। वह बसपा से निष्कासित होने के बाद भाजपा से अपरोक्ष रूप से जुड़े हुए थे। उन्होंने हाथरस में पूर्व सांसद सीमा उपाध्याय को भाजपा के सहयोग से जिला पंचायत अध्यक्ष बनवाया था।

मकर संक्रांति पर सूर्य की दिशा बदली तो रामवीर उपाध्याय ने भी राजनीति में अपनी दिशा बदल ली। शनिवार सुबह 11 बजे वह आगरा के शास्त्रीपुरम स्थित आवास पर भाजपा की औपचारिक रूप से सदस्यता ग्रहण करेंगे।

बसपा सरकार में मुखर ब्राहमण चेहरा और ऊर्जा मंत्री रहे रामवीर उपाध्याय ने हाथरस को छोड़कर आगरा में लोकसभा चुनाव के दौरान फतेहपुर सीकरी से दांव लगाया। फतेहपुर सीकरी से उन्होंने पत्नी सीमा उपाध्याय को सांसद बनवाया।

सीमा उपाध्याय ने तब राज बब्बर को हराया था। उसी दौरान रामवीर उपाध्याय ने शास्त्रीपुरम में घर बनवाया, तभी से उनका आगरा से नाता बना हुआ है। अब 25 साल तक बसपा में रहने के बाद जब इस्तीफा दिया तो वह नई पारी की शुरूआत भी आगरा से ही कर रहे हैं।

%d bloggers like this: