Lok Shakti.in

Nationalism Always Empower People

हमारे देश की निर्वाचन प्रक्रिया विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र में समावेशी है, इसे इस तरह से बनाया गया है कि कोई भी वयस्क, मतदान से वंचित न रहे

भारत निर्वाचन आयोग के निर्देश पर आगामी विधान सभा सामान्य निर्वाचन-2022 में दिव्यांग मतदाताओं का मत प्रतिशत बढ़ाने तथा अर्ह दिव्यांग मतदाताओं का नाम मतदाता सूची में शामिल करने के लिए मुख्य निर्वाचन अधिकारी कार्यालय एवं जिला प्रशासन द्वारा निरन्तर कार्य किया जा रहा है। स्वीप कार्यक्रम के अंतर्गत भी पंजीकरण कराने एवं मतदान हेतु दिव्यांग मतदाताओं को जागरूक किया जा रहा है।
इसी क्रम में आज विश्व दिव्यांग दिवस के अवसर पर दिव्यांगों द्वारा सुगम्य मतदान करने हेतु एक राज्य स्तरीय जागरूकता कार्यक्रम का आयोजन लखनऊ विश्वविद्यालय के मालवीय सभागार में किया गया। इस अवसर पर कार्यक्रम के मुख्य अतिथि मुख्य निर्वाचन अधिकारी, उ0प्र0 श्री अजय कुमार शुक्ला ने दिव्यांगों के प्रति अपनी हार्दिक शुभकामनाएं व्यक्त की और विभिन्न क्षेत्रों में दिव्यांगजनों के योगदान को नमन करते हुए कहा कि आज दिव्यांगजन प्रत्येक क्षेत्र में अपना महत्वपूर्ण योगदान दे रहे है तथा लोगों के लिए प्रेरणास्रोत भी बन रहे हैं।
मुख्य निर्वाचन अधिकारी ने कहा कि मतदाता सूची में नाम जोड़ने के लिए विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण-2022 कार्यक्रम निर्वाचन आयोग द्वारा चलाया जा रहा है। 01 जनवरी, 2022 को जो दिव्यांग 18 वर्ष की आयु पूर्ण कर रहें है या ऐसे अर्ह दिव्यांग जिनका नाम मतदाता सूची में शामिल नहीं है, वे पंजीकरण हेतु आवेदन कर सकते हैं। दिव्यांगों के लिए सुगम्य मतदान करने के लिए स्टेट स्टेयरिंग कमेटी का गठन किया है, जिसके द्वारा मतदान केन्द्रों पर दिव्यांगों हेतु रैम्प बिजली, पानी, शौचालय आदि की व्यवस्था सुनिश्चित की जा रही है। दिव्यांगों की सुविधा के लिए निर्वाचन आयोग द्वारा च्ूक् ।चच  भी बनाया गया है। उन्होंने कहा कि मतदाता सूची में अर्ह दिव्यांग मतदाताओं का नाम शामिल करने के लिए विभिन्न स्वयं सेवी संस्थाओं, एनसीसी, रेडक्रास का भी सहयोग लिया जा रहा है। उन्होंने कहा कि समावेशी निर्वाचन तभी संभव है, जब उसमें सभी की सहभागिता हो। दिव्यांग मतदाता जो मतदाता सूची में टैग है उन्हें  निर्वाचन आयोग द्वारा पहली बार उनको घर से ही पोस्टल वैलेट पर अपना मतदान देने की वैकल्पिक व्यवस्था की गई है। बे बूथ पर जाकर भी अपना मतदान कर सकते हैं।  
कार्यक्रम में जिलाधिकारी/जिला निर्वाचन अधिकारी लखनऊ श्री अभिषेक प्रकाश ने दिव्यांगजनों को प्रोत्साहित करते हुए कहा कि निर्वाचन आयोग द्वारा चलाये जा रहे विशेष संक्षिप्त पुनरीक्षण-2022 का अधिक से अधिक लाभ उठाये तथा अर्ह मतदाता अपना पंजीकरण करायें। कार्यक्रम में अपर मुख्य निर्वाचन अधिकारी डॉ0 ब्रह्मदेव राम तिवारी ने निर्वाचन आयोग द्वारा दिव्यांग मतदाताओं को प्रदान की जाने वाली सुविधाओं की जानकारी दी। उन्होंने कहा कि हमारे देश की निर्वाचन प्रक्रिया विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र में समावेशी है, इसकी प्रक्रिया इस तरह से बनायी गयी है कि कोई भी वयस्क, मतदान से वंचित न रहे। इसके लिए अर्ह दिव्यांग मतदाताओं का पंजीकरण करने तथा उन्हें मतदाता बनाने के लिए लगातार जागरूकता कार्यक्रम चलाये जा रहा है। उन्होंने कहा कि निर्वाचन आयोग द्वारा एक्सेसवेल इलेक्शन कराये जाने की पूरी योजना बनायी है। इसीलिए हर दिव्यांगों मतदाताओं के लिए बूथों पर रैम्प, ट्राइसाइकिल तथा वालण्टियर की व्यवस्था की गई है। कोई भी दिव्यांग मतदाता मतदान से वंचित न रहे, इसकी व्यवस्था की जा रही है।
कार्यक्रम को संयुक्त निदेशक दिव्यांगजन सशक्तीकरण विभाग श्री ए0के0 वर्मा, मुख्य विकास अधिकारी श्री अश्वनी कुमार पाण्डेय ने भी संबोधित किया। इस अवसर पर संयुक्त मुख्य निर्वाचन अधिकारी श्री अम्बरीश कुमार श्रीवास्तव, अपर जिलाधिकारी (प्रशासन) सिटी श्री अमरपाल उपस्थिति रहे। कार्यक्रम का संचालन डा0 राकेश द्विवेदी ने किया।

%d bloggers like this: