Lok Shakti.in

Nationalism Always Empower People

कृषि कानून वापसी पर सत्यपाल मलिक ने याद दिलाई इंदिरा गाँधी और जनरल वैद्य की हत्या, लोग बोले- उकसा क्यों रहे

अगर मोदी कृषि कानून वापस नहीं लेंगे तो उनका हाल इंदिरा जैसा होगाÓ, सत्यपाल मलिक का वीडियो वायरल नईदिल्ली,संवाददाता।मेघालय के राज्यपाल सत्यपाल मलिक का तीन कृषि कानूनों की वापसी पर दिया गया विवादित बयान का सोशल मीडिया पर खूब वायरल हो रहा है। वायरल वीडियो में वह कह रहे हैं कि अगर वह कृषि कानून वापस नहीं लेते तो उनका हाल इंदिरा गाँधी जैसा होता। यह वीडियो 8 नवंबर 2021 का है। सत्यपाल मलिक के इस वीडियो पर फिल्म निर्माता अशोक पंडित भड़के हुए नजर आए। इसे लेकर उन्होंने ट्विटर पर गृह मंत्रालय, पीएम मोदी को टैग करते हुए शिकायत भी की है। साथ ही लिखा, “उन्हें अपने इस गैर जिम्मेदाराना बयान के लिए इस्तीफा दे देना चाहिए।” सोशल मीडिया में वायरल वीडियों पर लोगों ने जमकर प्रतिक्रिया दी है, ओैर कहा है कि ऐसे बयान देकर उकसाने का काम हो रहा है।

सत्यपाल मलिक ने कहा कि ऑपरेशन ब्लूस्टार के बाद इंदिरा गाँधी को भी उनके आने वाले भाग्य के बारे में पता था। जब इंदिरा ने अकाल तख्त को नष्ट किया, तो उन्होंने अपने फार्महाउस पर ‘महा मृत्युंजय यज्ञÓ किया। अरुण नेहरू मेरे अच्छे दोस्त थे, उन्होंने मुझे इसके बारे में बताया था। उन्होंने इंदिरा गाँधी से कहा था कि आप तो इसे नहीं मानती थीं तो फिर ये सब क्यों रही हैं? इस पर इंदिरा ने अरुण नेहरू से कहा था कि तुझे नहीं पता जिनका अकाल तख्त तोड़ा है, वो तो 600 साल भी नहीं भूलते हैं। मुझे विश्वास है कि ये मुझे मारेंगे। मलिक आगे कहते हैं कि इंदिरा गाँधी इस खतरे को भाँप गई थीं कि वे उन्हें मारेंगे और वही हुआ। सत्यपाल मलिक ने अपनी बात को आगे बढ़ाते हुए कहा, “जनरल वैद्या को सिक्खों ने पुणे में मारा, जनरल डायर को लंदन में मारा। मैंने इनसे यह भी कहा था कि आप इनके धैर्य की परीक्षा मत लो।”

राज्यपाल जैसे पद पर रहते हुए क्या बोल गए मलिक?
सत्यपाल मलिक हालांकि कई दिनों से ऐसे ही बयान दे रहे हैं। पर वह ऐसा क्यों कर रहे हैं? इस विषय में जो अनुमान लगाए जा रहे हैं वह यही हैं कि अब शायद राज्यपाल के रूप में यह इनकी अंतिम पारी है और अब आगे उन्हें कुछ मिलना नहीं है, इसलिए वह “राजनीतिक शहादत” देने के लिए ऐसे उल जलूल बयान दे रहे हैं, जिससे सरकार उन्हें हटा दे और वह राजनीतिक शहादत का फायदा उठा सकें। वैसे राजनीतिक गलियारों में समाजवादी और भाजपाई सत्यपाल मलिक के विषय में कई चर्चाएँ होती रहती हैं, कि कैसे वह आपातकाल में जेल जाने से बचे थे।

इस विषय में वरिष्ठ पत्रकार एवं आपका अख़बार के सम्पादक प्रदीप सिंह का यह वीडियो काफी परतें खोलता है। वह बताते हैं कि सत्यपाल मलिक अपनी सेटिंग से आपातकाल में जेल जाने से बच ही नहीं गए थे बल्कि साथ ही उन्होंने अपने साथियों को भी गिरफ्तार करा दिया था। वह कहते हैं, कि आपातकाल के बाद चौधरी चरण सिंह को सुधीर गोयल द्वारा इस बात का पता चला था तो उन्होंने उन्हें पार्टी से निकाल दिया और फिर 1984 में उन्होंने कांग्रेस ज्वाइन कर ली थी। और उसके बाद अटल जी की सरकार के समय भारतीय जनता पार्टी में आ गए थे।प्रदीप सिंह के अनुसार उन्हें भारतीय जनता पार्टी ने उनकी क्षमता से अधिक दे दिया है और उन्हें यह पता है कि अब भारतीय जनता पार्टी उन्हें कुछ दे नहीं सकती है।

%d bloggers like this: