प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने दूसरे कार्यकाल के 75 दिन पूरे होने के मौके पर मंगलवार को कामकाज का ब्योरा देने के साथ जम्मू-कश्मीर पर फैसले का विरोध कर रहे लोगों को घेरा। उन्होंने कहा कि अनुच्छेद 370 समेत जम्मू-कश्मीर पर लिया गया फैसला राजनीति नहीं बल्कि राष्ट्र का विषय है। प्रधानमंत्री ने एक इंटरव्यू में कहा कि सरकार ने दूसरे कार्यकाल के 75 दिनों में स्पष्ट नीति-सही दिशा से एक अभूतपूर्व रफ्तार हासिल की है।

अनुच्छेद 370 हटाने और तीन तलाक पर कानून के साथ समेत तमाम महत्वपूर्ण कानून पारित हुए हैं। मोदी ने कहा कि बच्चों की सुरक्षा को कड़े कानून से लेकर चंद्रयान-2, भ्रष्टाचार के खिलाफ कार्रवाई से लेकर मुस्लिम महिलाओं को तीन तलाक जैसी बुराई से मुक्ति दिलाने तक हमने वह सब कुछ कर के दिखाया है, जो एक स्पष्ट बहुमत और दृढ़संकल्प वाली सरकार हासिल कर सकती है।

कश्मीर मसले पर दखल से शीर्ष कोर्ट का इनकार, हालात को बताया संवेदनशील

जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने के विरोध के प्रश्न पर मोदी ने कहा कि इस फैसले का विरोध कुछ निहित स्वार्थ वाले समूह, कुछ सियासी परिवार, आतंकवाद से सहानुभूति रखने वाले और विपक्ष के कुछ मित्र कर रहे हैं। जबकि राजनीतिक झुकाव को परे रखकर जनता ने इसका समर्थन किया है। जनता देख रही है कि कठोर लेकिन महत्वपूर्ण फैसले, जो पहले असंभव माने जाते थे, आज वे हकीकत बन चुके हैं। प्रधानमंत्री ने कहा कि अनुच्छेद 370 और 35 (ए) के प्रावधानों पर यह स्पष्ट हो चुका है कि कैसे इन कानूनों ने जम्मू, कश्मीर और लद्दाख के लोगों को अलग-थलग करके रखा। सात दशक लंबी यथास्थिति स्पष्ट तौर पर जनता की आकांक्षाओं को पूरा नहीं कर सकी। पहले भय हावी था और हम अब विकास को आगे बढ़ाएंगे।

संसद ने कामकाज का रिकॉर्ड बनाया
प्रधानमंत्री ने कहा, 17वीं लोकसभा के प्रथम सत्र ने रिकॉर्ड बनाया है। यह 1952 से लेकर अब तक का सबसे फलदायी सत्र रहा है। यह कोई छोटी उपलब्धि नहीं है, बल्कि बेहतरी का एक ऐतिहासिक मोड़ है, जिसने संसद को जनता की जरूरतों के प्रति अधिक जवाबदेह बनाया है। कई ऐतिहासिक पहल हुई हैं, जिसमें किसान, व्यापारियों के लिए पेंशन योजना शामिल है।

आतंकियों के लिए धड़क रहा कुछ लोगों का दिल
अनुच्छेद 370 पर विरोध के स्वर पर मोदी ने कहा कि कुछ लोगों का दिल सिर्फ माओवादियों और आतंकवादियों के लिए धड़कता है, जो आम जनता में दहशत कायम करते हैं। आज हर भारतीय जम्मू-कश्मीर और लद्दाख के लोगों के साथ खड़ा हुआ है और हमें यकीन है कि राज्य में अमन और विकास के लक्ष्य को पाने में हमें उनका सहयोग मिलेगा। राज्य में पंचायत चुनाव भी सफल रहे हैं।

बड़े फैसले गिनाए
* जम्मू-कश्मीर से अनुच्छेद 370 हटाने और तीन तलाक जैसे महत्वपूर्ण कानून पारित कराए।
* मोटर वाहन और उपभोक्ता संरक्षण जैसे लंबे समय से लटके कानून पास।
* किसानों और व्यापारियों के लिए पेंशन की पहल, श्रम सुधारों की शुरुआत।
* चिकित्सा शिक्षा सुधार के लिए राष्ट्रीय मेडिकल आयोग गठन का फैसला।
* दिवाला संहिता, पोंजी स्कीम और चिटफंड पर आम आदमी के लिए कानून।

Leave comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *.