Lok Shakti.in

Nationalism Always Empower People

विधायक विजय मिश्र की बढेंगी मुश्किलें, मंत्री नंदी पर हमले मामले में वाहन की हुई शिनाख्त

prayagraj news : मंत्री नंद गोपाल गुप्ता नंदी और ज्ञानपुर विधायक विजय मिश्र (फाइल फोटो)।

{“_id”:”606f393d8ebc3ee63965f315″,”slug”:”gyanpur-mla-vijay-mishra-will-increase-difficulties-identification-of-vehicle-in-case-of-attack-on-minister-nandi”,”type”:”story”,”status”:”publish”,”title_hn”:”u0935u093fu0927u093eu092fu0915 u0935u093fu091cu092f u092eu093fu0936u094du0930 u0915u0940 u092cu0922u0947u0902u0917u0940 u092eu0941u0936u094du0915u093fu0932u0947u0902, u092eu0902u0924u094du0930u0940 u0928u0902u0926u0940 u092au0930 u0939u092eu0932u0947 u092eu093eu092eu0932u0947 u092eu0947u0902 u0935u093eu0939u0928 u0915u0940 u0939u0941u0908 u0936u093fu0928u093eu0916u094du0924″,”category”:{“title”:”City & states”,”title_hn”:”u0936u0939u0930 u0914u0930 u0930u093eu091cu094du092f”,”slug”:”city-and-states”}}

अमर उजाला नेटवर्क, प्रयागराज
Published by: विनोद सिंह
Updated Thu, 08 Apr 2021 10:41 PM IST

सार
फर्स्ट इन्वेस्टिगेटिव ऑफिसर रहे एके निगम ने की तीन मोटरसाइकिल की पहचान की, कोर्ट में दी गवाही

prayagraj news : मंत्री नंद गोपाल गुप्ता नंदी और ज्ञानपुर विधायक विजय मिश्र (फाइल फोटो)।
– फोटो : prayagraj

पढ़ें अमर उजाला ई-पेपर कहीं भी, कभी भी।

ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

उत्तर प्रदेश के कैबिनेट मंत्री नन्द गोपाल गुप्ता नंदी पर 2010 में हुए जानलेवा हमले और बम विस्फोट मामले में मुख्य आरोपी ज्ञानपुर विधायक विजय मिश्र सहित अन्य आरोपियों की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। हमले के दौरान प्रयुक्त उन मोटरसाइकिलों की  पहचान कर ली गई है, जिनका इस्तेमाल विस्फोट करने के लिए किया गया था। गुरुवार को एमपीएमएलए कोर्ट में फर्स्ट इन्वेस्टिगेटिव ऑफिसर रहे एके निगम ने मोटर साइकिल की पहचान की। अगली सुनवाई अब 17 अप्रैल को होगी। आज सुनवाई के दौरान एडवोकेट जेपी शर्मा वरिष्ठ अधिवक्ता दिल्ली हाईकोर्ट भी मौजूद रहे।उत्तर प्रदेश के नागरिक उड्डयन, अल्पसंख्यक कल्याण, राजनीतिक पेंशन, मुस्लिम वक्फ एवं हज मंत्री नंद गोपाल गुप्ता नंदी पर 2010 में हुए जानलेवा हमले के मामले की गुरुवार को एमपीएमएलए कोर्ट में सुनवाई हुई। मामले के आरोपी दिलीप मिश्रा, ज्ञानपुर विधायक विजय मिश्र और महेंद्र पांडेय द्वारा जानलेवा हमला कराए जाने की गवाही कोर्ट में देने वाले और अहम तथ्यों का खुलासा करने वाले तत्कालीन फर्स्ट इन्वेस्टिगेटिव ऑफिसर रहे एके निगम ने गुरुवार को घटना में प्रयुक्त मोटरसाइकिल की पहचान की।मंत्री नंदी पर 2010 में हुए हमले में छह मोटरसाइकिल डैमेज हुई थी, जिसमें बजाज सनी शामिल थी, जिसमें rdx  और रिमोट बम लगाया गया था। छह मोटरसाइकिल में बजाज सनी समेत तीन मोटरसाइकिल आज कोर्ट में पेश की गई, जिसकी शिनाख्त फर्स्ट इन्वेस्टिगेटिव ऑफिसर ने की। कोर्ट ने अन्य माल मुकदमा को 17 अप्रैल की अगली डेट में पेश करने का आदेश पुलिस को दिया। माफिया दिलीप मिश्रा, विधायक विजय मिश्रा और महेंद्र पांडे घटना के मुख्य आरोपी हैं।

विस्तार

उत्तर प्रदेश के कैबिनेट मंत्री नन्द गोपाल गुप्ता नंदी पर 2010 में हुए जानलेवा हमले और बम विस्फोट मामले में मुख्य आरोपी ज्ञानपुर विधायक विजय मिश्र सहित अन्य आरोपियों की मुश्किलें बढ़ सकती हैं। हमले के दौरान प्रयुक्त उन मोटरसाइकिलों की  पहचान कर ली गई है, जिनका इस्तेमाल विस्फोट करने के लिए किया गया था। गुरुवार को एमपीएमएलए कोर्ट में फर्स्ट इन्वेस्टिगेटिव ऑफिसर रहे एके निगम ने मोटर साइकिल की पहचान की। अगली सुनवाई अब 17 अप्रैल को होगी। आज सुनवाई के दौरान एडवोकेट जेपी शर्मा वरिष्ठ अधिवक्ता दिल्ली हाईकोर्ट भी मौजूद रहे।

उत्तर प्रदेश के नागरिक उड्डयन, अल्पसंख्यक कल्याण, राजनीतिक पेंशन, मुस्लिम वक्फ एवं हज मंत्री नंद गोपाल गुप्ता नंदी पर 2010 में हुए जानलेवा हमले के मामले की गुरुवार को एमपीएमएलए कोर्ट में सुनवाई हुई। मामले के आरोपी दिलीप मिश्रा, ज्ञानपुर विधायक विजय मिश्र और महेंद्र पांडेय द्वारा जानलेवा हमला कराए जाने की गवाही कोर्ट में देने वाले और अहम तथ्यों का खुलासा करने वाले तत्कालीन फर्स्ट इन्वेस्टिगेटिव ऑफिसर रहे एके निगम ने गुरुवार को घटना में प्रयुक्त मोटरसाइकिल की पहचान की।

मंत्री नंदी पर 2010 में हुए हमले में छह मोटरसाइकिल डैमेज हुई थी, जिसमें बजाज सनी शामिल थी, जिसमें rdx  और रिमोट बम लगाया गया था। छह मोटरसाइकिल में बजाज सनी समेत तीन मोटरसाइकिल आज कोर्ट में पेश की गई, जिसकी शिनाख्त फर्स्ट इन्वेस्टिगेटिव ऑफिसर ने की। कोर्ट ने अन्य माल मुकदमा को 17 अप्रैल की अगली डेट में पेश करने का आदेश पुलिस को दिया। माफिया दिलीप मिश्रा, विधायक विजय मिश्रा और महेंद्र पांडे घटना के मुख्य आरोपी हैं।