Lok Shakti.in

Nationalism Always Empower People

Noida news: दिल्ली से हॉन्डा सिटी में आते, लिफ्ट देते, फिर क्राइम ब्रांच अधिकारी बनकर लूटते, जानिए लिफाफा गैंग की पूरी कहानी

Noida news: दिल्ली से हॉन्डा सिटी में आते, लिफ्ट देते, फिर क्राइम ब्रांच अधिकारी बनकर लूटते, जानिए लिफाफा गैंग की पूरी कहानी

हाइलाइट्स:नोएडा में पुलिस ने लिफाफा गैंग के सदस्यों को किया गिरफ्तारदिल्ली से हॉन्डा सिटी में नोएडा एक्सप्रेसवे पर आते थे, कानपुर तक देते थे लूट को अंजामसवारियों को कार में बिठाकर खुद को क्राइम ब्रांच का बताते थेतलाशी के नाम पर कैश और जूलरी एक लिफाफे में रखवाते और गुपचुप बदल देते लिफाफानोएडाकार में सवारियों को लिफ्ट देकर कुछ दूर चलने पर खुद को क्राइम ब्रांच से बताना। आगे चेकिंग का हवाला देकर जूलरी और कैश लिफाफे में रखवाना, फिर बीच में उतार कर लिफाफा बदल लेना। या फिद उनके मना का न करने पर गन पॉइंट पर लूटना। इस तरह से नोएडा-ग्रेटर नोएडा एक्सप्रेसवे सहित अन्य शहरों में वारदात कर रहे लिफाफा गैंग को दबोचने में सेक्टर-39 थाना पुलिस को कामयाबी मिली है। पुलिस ने इस गैंग के चार बदमाशों को कार सहित पकड़ा है। इनके कब्जे से लूट की लाखों रुपये की जूलरी व 25 हजार रुपये कैश भी बरामद हुआ है।नोएडा-ग्रेना एक्सप्रेसवे पर यह बदमाश महामाया फ्लाईओवर के पास से सवारी बैठाकर शिकार बना रहे थे। कारण यहां पर इन बदमाशों को पुलिस न मौजूद होने का फायदा मिल रहा था।दिल्ली से आते थे लूट करनेपुलिस के मुताबिक थाना-39 की टीम मंगलवार को गश्त कर रही थी। इस दौरान इन बदमाशों को गोल्फ कोर्स सेक्टर-37 के पास से पकड़ा गया। पहचान त्रिलोकपुरी दिल्ली निवासी राहुल उर्फ अजय मिश्रा, रमेश, प्रवीण और अशोक उर्फ संटी के रूप में हुई है। यह गैंग रात में होंडा सिटी से कार से आता था। वाहन का इंतजार कर रहे लोगों को कार में लिफ्ट देकर खुद को क्राइम ब्रांच से बताकर लूटपाट करता था।पूछताछ में कई घटनाओं का खुलासा26 फरवरी को बदरपुर दिल्ली के रहने वाले कैलाश कांत नामक एक शख्स को इन बदमाशों ने ही नोएडा के महामाया फ्लाईओवर के पास से लिफ्ट दिया था। कुछ दूर आगे जाने के बाद इन लोगों ने उससे क्राइम ब्रांच का अधिकारी बताया और उसके पास से एटीएम कार्ड लूट लिया था। इनसे पूछताछ में कई घटनाओं का खुलासा हुआ है। इनमें कुछ घटनाएं दूसरे शहर की भी बताई जा रही हैं।कानपुर तक यह गैंग लूट करने जाता थाएडीसीपी रणविजय सिंह ने बताया कि यह संगठित गैंग है। पिछले कई साल से इस तरह की वारदातें कर रहा था। आरोपियों से पूछताछ में पता चला है कि इन लोगों ने नोएडा के अलावा दिल्ली, गाजियाबाद, मेरठ, कानपुर सहित अन्य शहरों में अपने तरीके से लूटपाट की है। पकड़े गए बदमाश रमेश के ऊपर 4, राहुल उर्फ अजय मिश्रा पर 7, प्रवीण पर 5 और अशोक पर 1 केस दर्ज हैं।गिरफ्तार किए गए लिफाफा गैंग के सदस्य