अहमदाबाद. जहरीली शराब पीने से अहमदाबाद के गोता इलाके में चार लोगों के आंखों की रोशनी चली गई जबकि पुलिस जहरीली शराब कांड होने से इन्कार कर रही है. जहरीली शराब से प्रभावित चारों लोगों का इलाज चल रहा है. प्रशासन ने जांच के आदेश दिए हैं. दूसरी तरफ, कांग्रेस विधायक अल्पेश ठाकोर, दलित नेता जिग्नेश मेवाणी और पाटीदार नेता हार्दिक पटेल ने पीड़ितों से मिलने के बाद सरकार पर आरोप लगाए हैं.
शहर के गोता इलाके में बुधवार की रात चार लोगों की देशी शराब पीने के बाद तबियत खराब हो गई थी. चारों को तुरंत ही सोला सिविल अस्पताल में भर्ती कराया गया था. जहां से बाद में उन्हें अहमदाबाद सिविल अस्पताल रैफर किया गया. सिविल प्रशासन ने गुरुवार सुबह पत्रकारों को बताया कि चारों को जहरीला पदार्थ पीने से आंखों से कम दिखाई दे रहा है. दो की हालत नाजुक है. उन्हें लाइफ सपोर्ट सिस्टम (वेंटीलेटर) पर रखा गया है.
उधर कांग्रेस के विधायक अल्पेश ठाकोर, पाटीदार नेता हार्दिक पटेल और दलित नेता जिग्नेश मेवाणी ने अहमदाबाद सिविल अस्पताल पहुंच कर पीडितों से मुलाकात की. उन्होंने आरोप लगाया है कि गुजरात में शराबबंदी कानून है, लेकिन इसे लागू नहीं किया जा रहा है. पूरे राज्य में शराब के अड्डे चल रहे हैं. राजधानी गांधीनगर से इसका संचालन हो रहा है.
विधायक अल्पेश ठाकोर ने कहा कि ठाकोर सेना पहले ही गोता पुलिस को इन शराब के अड्डों के बारे में बताया था, लेकिन पुलिस ने कोई कार्रवाई नहीं की क्योंकि पुलिस इन बुटलेगरों से हफ्ता वसूलती है. तीनों नेताओं ने कहा कि हम लड़ रहे हैं, लेकिन सरकार उनका साथ नहीं दे रही है. शनिवार से पूरे अहमदाबाद में शराब के अड्ड़ों पर जनता रेड किया जाएगा.

Leave comment

Your email address will not be published. Required fields are marked with *.

Lok Shakti

FREE
VIEW