Dhan Kendra: देवरिया में क्रय केंद्रों से 5 करोड़ रुपए का धान गायब, जिला प्रबंधक निलंबित, 10 के खिलाफ ऐक्शन - Lok Shakti.in

Lok Shakti.in

Nationalism Always Empower People

Dhan Kendra: देवरिया में क्रय केंद्रों से 5 करोड़ रुपए का धान गायब, जिला प्रबंधक निलंबित, 10 के खिलाफ ऐक्शन

Dhan Kendra: देवरिया में क्रय केंद्रों से 5 करोड़ रुपए का धान गायब, जिला प्रबंधक निलंबित, 10 के खिलाफ ऐक्शन

देवरिया: उत्तर प्रदेश के देवरिया में धान क्रय केंद्र के प्रभारियों ने लगभग 5 करोड़ रुपए के धान का गोलमाल कर दिया है। समीक्षा बैठक में केंद्र प्रभारियों से मिले जवाब से घोटाले की आशंका होने पर जिलाधिकारी ने क्रय केंद्रों की जांच कराई तो खरीद के रेकॉर्ड और स्टॉक में लगभग 20 हजार क्विंटल से अधिक धान कम पाया गया। सत्यापन में अनियमितता के बाद 10 केंद्र प्रभारियों के खिलाफ कार्यवाही की गई है। इसमें 6 केंद्र प्रभारियों को निलंबित कर दिया गया है और बाकी के खिलाफ कार्यवाही की संस्तुति की गई है। इस मामले में यूपीएसएस के जिला प्रबंधक को भी निलंबित किया गया है। इसके पूर्व चार क्रय केंद्र प्रभारियों के खिलाफ भी एफआईआर दर्ज कराई जा चुकी है।

देवरिया जिले में इस वर्ष 1 लाख 80 हजार मैट्रिक टन धान की खरीद का लक्ष्य रखा गया है। इसके लिए जिले भर में कुल 92 धान क्रय केंद्र बनाए गए हैं। विभाग के मुताबिक अभी तक लगभग साढ़े 9 लाख क्विंटल धान की खरीद की जा चुकी है। धान की खरीद फरवरी माह तक जारी रहेगी। धान क्रय केंद्र प्रभारियों द्वारा बिचौलियों की सांठ-गांठ से धान की खरीद में भारी गोलमाल का मामला सामने आया है। इस बात की शिकायत मिलने पर जिलाधिकारी ने धान खरीद की समीक्षा बैठक में क्रय केंद्र प्रभारियों से खरीद के रेकॉर्ड और स्टाक के बारे में विस्तार से जानकारी मांगी तो कई केंद्र प्रभारियों ने गोल मटोल जवाब दिया गया। आशंका होने पर जिलाधिकारी जितेंद्र प्रताप सिंह टीम बनाकर क्रय केंद्रों की जांच कराई तो धान खरीद के रेकॉर्ड और स्टॉक में भारी अंतर पाया गया। अभी तक हुई जांच में 5 करोड़ रूपए का धान कम पाया गया है।

10 प्रभारियों के खिलाफ कार्रवाईधान खरीद में हुई अनियमितता को लेकर जिलाधिकारी जितेंद्र प्रताप सिंह सबसे पहले यूपी एस एस के जिला प्रबंधक पर कार्रवाई की। डीएम के निर्देश पर यूपीएसएस के प्रबंध निदेशक वीके सिंह ने यूपीएसएस के जिला प्रबंधक को निलंबित कर दिया गया है। इसके अलावा 10 केंद्र प्रभारियों के खिलाफ भी कार्रवाई की गई है। 6 केंद्र प्रभारियों को निलंबित किया गया है और 4 के खिलाफ विभागीय कार्रवाई की संस्तुति की गई है। वहीं जिन 6 क्रय केंद्र प्रभारियों को निलंबित किया गया है, उनमें यूपीएसएस के बेलवा दुबौली, बंजरिया तथा रुस्तमपुर, पीसीएफ के परसिया छितनी सिंह, कृतपुरा एवं नारायणपुर औराई धान क्रय केंद्र शामिल हैं। पीसीएफ के जरिए संचालित गाजीपुर भैंसही और रामचक खोरमा के क्रय केंद्र प्रभारियों को प्रतिकूल प्रविष्टि दी जाएगी। विपणन शाखा के जरिए संचालित धान क्रय केंद्र भाटपाररानी और लार के प्रभारियों के खिलाफ विभागीय कार्रवाई की संस्तुति की गई है। इसके पहले भी 4 क्रय केंद्र प्रभारियों पर एफआईआर दर्ज की जा चुकीं हैं। हर किसान से खरीदा जा रहा दानजिलाधिकारी जितेंद्र प्रताप सिंह ने बताया कि धान क्रय केंद्रों के स्टॉक सत्यापन में भारी अनियमितता पाई गई है। इस मामले में कार्रवाई की गई है। जिले में धान खरीद पारदर्शिता और शुचिता के साथ की जा रही है। प्रत्येक किसान का धान खरीदा जा रहा है। उन्हें शासन की ओर से निर्धारित समय सीमा के अंदर मूल्य का भुगतान किया जा रहा है।
रिपोर्ट – कौशल किशोर त्रिपाठी