रामचरितमानस के मर्म को जीवन में उतारने की आवश्यकता – Lok Shakti.in

Lok Shakti.in

Nationalism Always Empower People

रामचरितमानस के मर्म को जीवन में उतारने की आवश्यकता

कलेक्टर श्री तारन प्रकाश सिन्हा ग्राम रसौटा में आयोजित मानस गायन प्रतियोगिता में शामिल हुए। इस दौरान उन्होंने कहा कि छत्तीसगढ़ सरकार रामवनगमन पथ का विकास कर भगवान श्री राम के बताये हुए मार्ग पर चल रही है। सरकार द्वारा प्रदेश में मानस मंडलियों का पंजीयन की प्रक्रिया भी प्रारंभ की गई है।    कलेक्टर ने कहा कि रामचरितमानस की पंक्तियों को जीवन में उतारेंगे तो लक्ष्यों की पूर्ति के साथ आध्यात्मिक शांति मिलती है। भगवान श्री राम ने 14 साल का वनवास का काटा था और अहंकार में पूर्ण रावण का वध किया था। उन्होंने कहा कि घमंड करने वाले का अंत जरूर होता है, इसलिए जीवन में विनम्र और शिष्टता रखना जरूरी है। रामायण हमें बहुत कुछ सिखाती है। हमें रामचरितमानस का  पाठन ही नहीं इसके मर्म को जीवन में उतारने की आवश्यकता है। उन्होंने ग्राम पंचायत स्तरीय मानस गायन प्रतियोगिता में शामिल प्रतिभागियों को प्रमाण पत्र भी वितरित किये। इस अवसर पर जिला पंचायत उपाध्यक्ष श्री राघवेन्द्र प्रताप सिंह एवं गांव के जनप्रतिनिधि उपस्थित थे।

%d bloggers like this: