Lok Shakti.in

Nationalism Always Empower People

Agneepath Protest: आगरा के मलपुरा में बवाल के दौरान 15 मोबाइल नंबर किसके थे, पुलिस कर रही जांच

Agneepath Protest: आगरा में युवाओं को भड़काने की साजिश का पर्दाफाश, व्हाट्सएप ग्रुप पर भेजे गए थे मैसेज

ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

आगरा के मलपुरा में अग्निपथ योजना के विरोध में ग्वालियर हाईवे पर हुए बवाल के मामले में एक आरोपी के मोबाइल में मिले व्हाट्स एप ग्रुप इंकलाब जिंदाबाद से भड़काऊ संदेश भेजे गए थे। पुलिस की जांच में यह बात सामने आने के बाद ग्रुप के सक्रिय सदस्यों के बारे में पुलिस जानकारी जुटा रही है। 15 मोबाइल नंबर संदिग्ध मिले हैं, जो बवाल के दौरान प्रतिक्रिया दे रहे थे। पुलिस मोबाइल नंबर धारक का पता कर रही है। इसके बाद कार्रवाई की जाएगी।

17 जून को मलपुरा के बाद गांव में ग्वालियर हाईवे पर बवाल हुआ था। अग्निपथ योजना का विरोध कर रहे युवाओं के साथ आए अराजकतत्वों ने पथराव किया था। एसओ की गाड़ी को तोड़ दिया था। पुलिस ने 13 आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था। नौ आरोपियों को जेल भेजा गया। पुलिस ने सभी के मोबाइल की जांच की थी। यह देखा गया कि उनको किसने भड़काया है ?

‘इंकलाब जिंदाबाद’ से युवाओं का भड़काया  

एक आरोपी अभिषेक भी पकड़ा गया था। उसके मोबाइल में एक व्हाट्सएप ग्रुप मिला था, जो इंकलाब जिंदाबाद के नाम से था। इस ग्रुप में युवाओं को भड़काया गया था। इसमें आगजनी करने के संदेश लिखे थे। यह ग्रुप जयपुर का निकला था। इसमें 15 एडमिन भी थे। 300 से ज्यादा लोगों को जोड़ दिया गया। मगर, कुछ ही लोग मैसेज कर रहे थे। इनके बारे में पुलिस जानकारी जुटा रही है।

मोबाइल नंबरों की जानकारी जुटा रही पुलिस

एसपी आरए सत्यजीत गुप्ता ने बताया कि ग्रुप से जल्द ही कुछ लोगों को जोड़ा गया था। जिन लोगों को जोड़ा गया था, वह प्रतिक्रिया नहीं दे रहे थे। इसलिए उनका कोई दोष नजर नहीं आता है। अन्य 15 नंबर मिले हैं, जो कि प्रतिक्रिया दे रहे थे। इनके बारे में जानकारी जुटाई जा रही है। नंबर उत्तर प्रदेश के साथ राजस्थान के हैं।

हाईवे और एक्सप्रेसवे पर पुलिस तैनात

अग्निपथ योजना के विरोध के मद्देनजर हाईवे और एक्सप्रेसवे पर पुलिस तैनात की गई है। सुबह से लेकर शाम तक पुलिस रहती है। वहीं गांव-गांव जाकर चौपाल में युवाओं को अग्निपथ योजना की जानकारी दी जा रही है।

विस्तार

आगरा के मलपुरा में अग्निपथ योजना के विरोध में ग्वालियर हाईवे पर हुए बवाल के मामले में एक आरोपी के मोबाइल में मिले व्हाट्स एप ग्रुप इंकलाब जिंदाबाद से भड़काऊ संदेश भेजे गए थे। पुलिस की जांच में यह बात सामने आने के बाद ग्रुप के सक्रिय सदस्यों के बारे में पुलिस जानकारी जुटा रही है। 15 मोबाइल नंबर संदिग्ध मिले हैं, जो बवाल के दौरान प्रतिक्रिया दे रहे थे। पुलिस मोबाइल नंबर धारक का पता कर रही है। इसके बाद कार्रवाई की जाएगी।

17 जून को मलपुरा के बाद गांव में ग्वालियर हाईवे पर बवाल हुआ था। अग्निपथ योजना का विरोध कर रहे युवाओं के साथ आए अराजकतत्वों ने पथराव किया था। एसओ की गाड़ी को तोड़ दिया था। पुलिस ने 13 आरोपियों के खिलाफ मुकदमा दर्ज किया था। नौ आरोपियों को जेल भेजा गया। पुलिस ने सभी के मोबाइल की जांच की थी। यह देखा गया कि उनको किसने भड़काया है ?

‘इंकलाब जिंदाबाद’ से युवाओं का भड़काया  

एक आरोपी अभिषेक भी पकड़ा गया था। उसके मोबाइल में एक व्हाट्सएप ग्रुप मिला था, जो इंकलाब जिंदाबाद के नाम से था। इस ग्रुप में युवाओं को भड़काया गया था। इसमें आगजनी करने के संदेश लिखे थे। यह ग्रुप जयपुर का निकला था। इसमें 15 एडमिन भी थे। 300 से ज्यादा लोगों को जोड़ दिया गया। मगर, कुछ ही लोग मैसेज कर रहे थे। इनके बारे में पुलिस जानकारी जुटा रही है।

%d bloggers like this: