Lok Shakti.in

Nationalism Always Empower People

मथुरा: वृंदावन में स्वतंत्र देव सिंह ने किए बांकेबिहारी के दर्शन, जल शक्ति मंत्री ने जानी यमुना की पीर

मथुरा: वृंदावन में स्वतंत्र देव सिंह ने किए बांकेबिहारी के दर्शन, जल शक्ति मंत्री ने जानी यमुना की पीर

सार
जल शक्ति मंत्री स्वतंत्र देव सिंह मंगलवार रात को मथुरा पहुंचे थे। उन्होंने देर रात ही मांट और बलदेव विधानसभा क्षेत्र में कई नहर और रजबहा का आकस्मिक निरीक्षण किया। बुधवार की सुबह उन्होंने बांकेबिहारी मंदिर में ठाकुरजी के दर्शन कर पूजा की। जिले के अधिकारियों के साथ बैठक कर विकास योजनाओं की प्रगति जानी।

ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष एवं प्रदेश सरकार के जल शक्ति मंत्री स्वतंत्र देव सिंह मंगलवार की रात वृंदावन पहुंचे। अघोरपीठ पहुंचकर मंत्री ने महामंडलेश्वर महंत बाल योगेश्वरानंद से आशीर्वाद लिया और यमुना की पीर को जाना। अपने तय समय से लगभग दो घंटे देरी से रात लगभग 12 बजे वृंदावन पहुंचे। 

महंत बाल योगेश्वरानंद ने यमुना की स्थिति से अवगत कराया। योगेश्वरानंद ने कहा कि गंदगी से पटी यमुना का जल स्नान तो दूर आचमन लेने लायक नहीं। मंत्री सीधे यमुना किनारे पहुंच गए। उन्होंने विभागीय अधिकारियों से यमुना में गिर रहे नालों और गंदगी के संबंध में रिपोर्ट तलब की।
 
बुधवार सुबह मंत्री ने ठाकुर श्रीबांकेबिहारी मंदिर में दर्शन कर पूजा-अर्चना की। पत्रकारों से वार्ता करते हुए कहा कि किसानों ने उन्हें बताया है कि यहां आसपास के ग्रामीण अंचल में पानी की कमी व खारा होने की समस्या है। मंत्री ने कहा कि खेतों में पर्याप्त मात्रा में मीठा पानी पहुंचे, इसके हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। यमुना में व्याप्त गंदगी के बारे में कहा कि यमुना को प्रदूषण मुक्त कराना ही सरकार की पहली प्राथमिकता है। केशीघाट की जर्जर स्थिति के प्रश्न पर मंत्री बात को टाल गए। 

 देर रात किया नहरों का निरीक्षण  
जल शक्ति मंत्री स्वतंत्र देव सिंह ने मंगलवार की देर रात मांट और बलदेव विधानसभा क्षेत्र में कई नहर और रजबहा का आकस्मिक निरीक्षण किया, जिसमें उन्हें क्षेत्रीय किसान खेतों में सिंचाई करते मिले। उन्होंने सिंचाई विभाग के अधिकारियों को निर्देश दिए कि जनपद में हर हाल में नहरों में टेल तक पानी पहुंचना चाहिए। उन्होंने कहा कि वृंदावन का विकास करना मोदी व योगी का सपना है।

मंगलवार की रात 11:30 बजे जल शक्ति मंत्री ने मांट के विधायक राजेश चौधरी के साथ मांट और बलदेव विधानसभा क्षेत्र के नहर, रजबहा और ड्रेन का निरीक्षण किया। मंत्री ने सिंचाई विभाग के अफसरों की क्लास लेते हुए नहर, रजबहा के बारे में जानकारी भी ली। 

अधिकारियों ने बताया कि अधिकांश टेल तक पानी पहुंच रहा है। हालांकि कुछ नहरों की स्थिति ठीक नहीं है। रात 12 बजे से 2 बजे तक जलशक्ति मंत्री ने निरीक्षण किया। उन्होंने हैंडपंपों की स्थिति को देखा। इस बीच दो नहरें सूखी मिलीं तो पता चला कि दूसरे रजबहा से पानी न आने के कारण समस्या आई है।

‘एक-एक बूंद पानी बचाना होगा’
उन्होंने कहा कि हम सबको मिलकर एक-एक बूंद पानी बचाना होगा। सभी खेतों में पानी पहुंचने के लिए योगी सरकार संकल्पबद्ध है। एसटीपी के चेकिंग के बाद उन्होंने बताया कि दो नाले छोड़कर सभी नालों की टेपिंग हो चुकी है। एसटीपी से नाले के पानी को स्वच्छ कर यमुनाजी में प्रवाहित किया जा रहा है। 

उन्होंने यमुना में जल प्रवाह कम होने के सवाल को नकारते हुए कहा कि मैंने नाव में बैठकर पूजा की है। पानी भी यमुना में खूब है और बदबू भी नहीं है। वृंदावन का विकास करना मोदी-योगी का सपना है। घर-घर स्वच्छ, शुद्ध पानी पहुंचे। खारे पानी की समस्या पर केंद्र और राज्य सरकार काम कर रही है। शीघ्र ही सभी जगह गंगा का मीठा पानी मिलेगा। 

विस्तार

भाजपा प्रदेश अध्यक्ष एवं प्रदेश सरकार के जल शक्ति मंत्री स्वतंत्र देव सिंह मंगलवार की रात वृंदावन पहुंचे। अघोरपीठ पहुंचकर मंत्री ने महामंडलेश्वर महंत बाल योगेश्वरानंद से आशीर्वाद लिया और यमुना की पीर को जाना। अपने तय समय से लगभग दो घंटे देरी से रात लगभग 12 बजे वृंदावन पहुंचे। 

महंत बाल योगेश्वरानंद ने यमुना की स्थिति से अवगत कराया। योगेश्वरानंद ने कहा कि गंदगी से पटी यमुना का जल स्नान तो दूर आचमन लेने लायक नहीं। मंत्री सीधे यमुना किनारे पहुंच गए। उन्होंने विभागीय अधिकारियों से यमुना में गिर रहे नालों और गंदगी के संबंध में रिपोर्ट तलब की।

 

बुधवार सुबह मंत्री ने ठाकुर श्रीबांकेबिहारी मंदिर में दर्शन कर पूजा-अर्चना की। पत्रकारों से वार्ता करते हुए कहा कि किसानों ने उन्हें बताया है कि यहां आसपास के ग्रामीण अंचल में पानी की कमी व खारा होने की समस्या है। मंत्री ने कहा कि खेतों में पर्याप्त मात्रा में मीठा पानी पहुंचे, इसके हर संभव प्रयास किए जा रहे हैं। यमुना में व्याप्त गंदगी के बारे में कहा कि यमुना को प्रदूषण मुक्त कराना ही सरकार की पहली प्राथमिकता है। केशीघाट की जर्जर स्थिति के प्रश्न पर मंत्री बात को टाल गए। 

%d bloggers like this: