Lok Shakti.in

Nationalism Always Empower People

UP Elections: सहारनपुर में जातीय समीकरणों के आधार पर भाजपा ने दिए टिकट, हाल ही में कांग्रेस से BJP में आए नरेश सैनी को भी मिला टिकट

UP Elections: सहारनपुर में जातीय समीकरणों के आधार पर भाजपा ने दिए टिकट, हाल ही में कांग्रेस से BJP में आए नरेश सैनी को भी मिला टिकट

सैयद मशकूर, सहारनपुर
भारतीय जनता पार्टी ने उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव के लिए अपने 107 प्रत्याशियों की पहली लिस्ट जारी कर दी है। इस लिस्ट में सहारनपुर की 7 विधानसभा सीटों के उम्मीदवारों के नाम भी शामिल हैं। योगी सरकार के मंत्री रहे स्वामी प्रसाद मौर्य (Swami Prasad Maurya) और डॉ. धर्म सिंह सैनी (Dharam Singh Saini) सहित ओबीसी के कई नेताओं द्वारा इस्तीफा दिए जाने के बाद बन रहे सियासी समीकरणों की काट के लिए बीजेपी ने अपनी प्रत्याशियों को मैदान में उतारा है। कांग्रेस छोड़कर हाल ही में बीजेपी का दामन थामने वाले विधायक नरेश सैनी व बसपा छोड़कर आए पूर्व विधायक जगपाल सिंह का भी नाम शामिल है।

नरेश सैनी को बीजेपी ने बेहट से ही टिकट दिया है, जबकि जगपाल देहात विधानसभा सीट से प्रत्याशी होंगे। योगी सरकार में आयुष मंत्री रहे और इस्तीफा देने वाले धर्म सिंह सैनी की नकुड़ विधानसभा सीट पर जिला पंचायत सदस्य मुकेश चौधरी बीजेपी से प्रत्याशी घोषित किए गए हैं। इसके अलावा पूर्व विधायक राजीव गुंबर एक बार फिर शहर सीट पर अपनी किस्मत आजमाएंगे।

भाजपा ने अपने तीनों विधायकों कुंवर बृजेश सिंह, कीरत सिंह और देवेंद्र निम का टिकट बरकरार रखा है। कुंवर ब्रजेश सिंह देवबंद विधानसभा सीट, देवेंद्र निम रामपुर मनिहारान सुरक्षित सीट और कीरत सिंह गंगोह विधानसभा क्षेत्र से बीजेपी के टिकट पर एक बार फिर चुनाव लड़ेंगे। जातिगत समीकरणों का ध्यान रखते हुए बीजेपी ने दो गुर्जर, एक पंजाबी, एक ठाकुर, एक सैनी और 2 अनुसूचित जाति के उम्मीदवारों को टिकट दिया है।

नरेश सैनी ने हाल ही में बीजेपी ज्वॉइन की थी
हाल ही में कांग्रेस छोड़कर बीजेपी में शामिल हुए नरेश सैनी को बीजेपी ने बेहट विधानसभा से अपना प्रत्याशी घोषित किया है। नरेश सैनी ने साल 2012 में कांग्रेस के टिकट पर बेहट विधानसभा सीट पर पहली बार चुनाव लड़ा था। इस मुकाबले में वह बसपा के महावीर सिंह राणा से मात्र 514 वोट कम लेकर चुनाव हार गए थे। इसका बदला नरेश सैनी ने 2017 के विधानसभा चुनाव में लिया था। सपा-कांग्रेस गठबंधन के प्रत्याशी के रूप में नरेश सैनी ने बीजेपी से चुनाव लड़े महावीर सिंह राणा को 20,000 से अधिक मतों से हराकर बेहट सीट पर कांग्रेस का परचम लहराया था। पिछले दिनों इमरान मसूद के समाजवादी पार्टी में जाने के बाद नरेश सैनी ने भी कांग्रेस छोड़कर बीजेपी का दामन थाम लिया था। इसीलिए बीजेपी ने बेहट विधानसभा सीट पर नरेश सैनी को अपना प्रत्याशी घोषित किया है।

जगपाल कभी मायावती के थे करीबी, अब हैं बीजेपी के प्रत्याशी
देहात विधानसभा सीट पहले हरोड़ा सुरक्षित विधानसभा सीट के नाम से जानी जाती थी। मायावती ने हरोड़ा विधानसभा सीट पर चुनाव जीतकर यूपी में अपनी सरकार बनाई थी और उनके सिर पर मुख्यमंत्री का ताज सजा था। मायावती के इस्तीफा देने पर हुए उपचुनाव में हरोड़ा से जगपाल बसपा के विधायक बने थे। हरोड़ा सीट पर जगपाल 2007 में भी विजयी हुए थे। बाद में देहात विधानसभा सीट बन जाने पर 2012 में जगपाल ने एक बार फिर बसपा का परचम लहराया था। 2017 विधानसभा चुनाव में कांग्रेस और समाजवादी पार्टी के गठबंधन प्रत्याशी मसूद अख्तर ने जगपाल को चुनाव हरा दिया था। इसके बाद भी जगपाल की बहुजन समाज पार्टी में मजबूत पकड़ मानी जाती थी। पिछले साल हुए जिला पंचायत चुनाव के बाद बसपा में जगपाल का कद घट गया था। यही नहीं उनके बेटे योगेश को भी बसपा जिलाध्यक्ष के पद से हटा दिया गया था। इसीलिए पिछले दिनों जगपाल बीजेपी में शामिल हो गए थे। बीजेपी ने 2022 विधानसभा चुनाव में देहात विधानसभा सीट से जगपाल को अपना उम्मीदवार घोषित किया है।

मुकेश चौधरी कभी हुआ करते थे इमरान मसूद के खास अब करेंगे डॉ. धर्म सिंह सैनी का मुकाबला
इन दिनों चर्चा का विषय बनी नकुड़ विधानसभा सीट (Nakur assembly seat) से बीजेपी ने जिला पंचायत सदस्य मुकेश चौधरी को अपना उम्मीदवार घोषित किया है। मुकेश चौधरी ने साल 2014 में सहारनपुर विधानसभा सीट (saharanpur assembly constituency) का उपचुनाव लड़ा था। इस इलेक्शन में मुकेश चौधरी को कांग्रेस के उम्मीदवार के रूप में 28,200 वोट मिले थे। मुकेश चौधरी कभी इमरान मसूद के सिपहसालार हुआ करते थे। बाद में उनकी राहें अलग हो गईं और भाजपा ज्वॉइन कर ली थी। अब बीजेपी ने मुकेश चौधरी को विधानसभा क्षेत्र से अपना उम्मीदवार घोषित किया है।

तीन विधायकों को फिर से दिया गया टिकट
शहर सीट से लगातार तीसरी बार राजीव गुंबर को बीजेपी ने अपना उम्मीदवार बनाया है। 2014 में शहर विधानसभा सीट पर हुए उपचुनाव में राजीव गुंबर ने सत्तारूढ़ समाजवादी पार्टी के प्रत्याशी संजय गर्ग को हराया था। 2017 के विधानसभा चुनाव में राजीव गुंबर समाजवादी पार्टी के संजय गर्ग से चुनाव हार गए थे। अब 2022 में एक बार फिर राजीव गुंबर का मुकाबला सपा के संजय गर्ग से तय माना जा रहा है। इसके अलावा बीजेपी ने देवबंद, गंगोह और रामपुर मनिहारान विधानसभा क्षेत्रों में अपने सिटिंग विधायक को ही फिर से मैदान में उतारा है। देवबंद से कुंवर बृजेश सिंह, रामपुर मनिहारान सुरक्षित सीट से देवेंद्र निम और गंगोह विधानसभा क्षेत्र से कीरत सिंह को बीजेपी ने एक बार फिर टिकट दिया है।

%d bloggers like this: