Lok Shakti.in

Nationalism Always Empower People

अमेरिकी डॉक्टरों ने कर दिखाया करिश्मा, इंसान के जिस्म में अब धड़क रहा है इस जानवर का दिल

वॉशिंगटन। अमेरिकी चिकित्सकों ने बड़ा करिश्मा कर दिखाया है। उन्होंने दिल की बीमारी से पीड़ित व्यक्ति का हार्ट ट्रांसप्लांट किया। खास बात ये कि जो नया दिल इस मरीज को लगाया गया है, वो इंसान का नहीं है। वो एक सुअर का है। सुअर के दिल को जेनेटिकली मॉडीफाइ करके ये ट्रांसप्लांट किया गया है। जेनेटिकली मॉडीफाइ यानी इसमें जीन्स में कुछ बदलाव किए गए हैं। ताकि इंसानी शरीर दिल को आसानी से जगह दे सके और मरीज को कोई दिक्कत न हो। यूनिवर्सिटी ऑफ मैरीलैंड स्कूल ऑफ मेडिसिन में ये हार्ट ट्रांसप्लाटं यानी प्रत्यारोपण किया गया। मरीज 57 साल का है और उनका नाम डेविड बेनेट है। डॉक्टरों के मुताबिक सुअर का दिल लगाए जाने के बाद मरीज की हालत ठीक है।

हार्ट ट्रांसप्लांट करने वाले डॉक्टरों का कहना है कि इंसानी शरीर में सुअर का दिल ठीक से काम कर रहा है और इस दिल से इंसानी दिल की तरह ही खून का दौरा और ब्लड प्रेशर बन रहा है। दिल के धड़कने की गति भी इंसान के दिल की तरह ही है। उन्होंने बताया कि शुक्रवार को हार्ट ट्रांसप्लांट किया गया और इस सर्जरी में 8 घंटे का वक्त लगा। मरीज को अभी भी हार्ट-लंग मशीन का सहारा दिया जा रहा है, लेकिन ये साफ हो गया है कि दिल ठीक से काम करेगा और शरीर ने इसे नकारा नहीं है। हार्ट-लंग मशीन से उसे आज हटाए जाने की उम्मीद है।

ऑपरेशन करने वाले डॉक्टरों के प्रमुख बार्टले पी. ग्रिफिथ ने मीडिया को बताया कि वो मरीज पर निगाह रखे हैं और उन्हें उम्मीद है कि दुनिया में पहली बार की गई ऐसी सर्जरी सफल रहेगी। डेविड बेनेट के शरीर को अगर सुअर का दिल स्वीकार हो जाता है, तो इससे आने वाले वक्त में ऐसे ही और मरीजों को राहत मिलने की राह आसान हो जाएगी। इससे पहले सुअर की कोशिकाएं और हार्ट वाल्व दिल के मरीजों को लगाए जा चुके हैं, लेकिन ऐसा पहली बार है कि सुअर का पूरा दिल ही किसी मरीज में ट्रांसप्लांट किया गया है। डॉक्टरों को बेनेट के दिल की जगह सुअर का दिल इसलिए लगाना पड़ा, क्योंकि उन्होंने पाया कि मरीज का शरीर इंसान के दिल को नहीं झेल सकता।

%d bloggers like this: