Lok Shakti.in

Nationalism Always Empower People

Dengue Ground Report UP: दवा दुकानों पर लौटा ‘कोरोना काल’! डेंगू के डंक से जूझते यूपी की पढ़िए ग्राउंड रिपोर्ट

Dengue Ground Report UP: दवा दुकानों पर लौटा 'कोरोना काल'! डेंगू के डंक से जूझते यूपी की पढ़िए ग्राउंड रिपोर्ट

वाराणसी/लखनऊ/नोएडा
कोरोना की दुश्वारियों से काफी हद तक उबरने के बाद अब डेंगू ने उत्तर प्रदेश में हालात बिगाड़ दिए हैं। पूर्वांचल से लेकर एनसीआर (राष्ट्रीय राजधानी क्षेत्र) के इलाकों में डेंगू का ग्राफ चढ़ता जा रहा है। वाराणसी में डेंगू, मलेरिया और बच्‍चों के वायरल बुखार ने पांव पसार लिया है। वहीं डेंगू के बढ़ते मामलों के बीच कहीं सिंगल डोनर प्लेटलेट्स किट (एसडीपी) खत्म हो गई है तो कहीं प्राइवेट लैब मनमानी पर उतारू हैं। पढ़िए उत्तर प्रदेश की ग्राउंड रिपोर्ट…

वाराणसी के अस्पतालों में सवा सौ मरीज भर्ती
पूर्वांचल के एम्‍स कहे जाने वाले बीएचयू के सर सुंदरलाल अस्‍पताल में प्‍लेटलेट्स न मिलने से मरीजों के इलाज पर संकट गहरा गया है। वाराणसी के अस्पतालों में डेंगू के सवा सौ मरीज भर्ती हैं, जबकि 1500 से अधिक मरीज संदिग्‍ध पाए गए हैं। मलेरिया के भी 106 मरीजों की पुष्टि होने से स्‍वास्‍थ्‍य विभाग में खलबली मची हुई है। बीएचयू अस्‍पताल के पीडियाट्रिक वॉर्ड के बेड वायरल वाले बच्‍चों से फुल हैं, तो जनरल मेडिसिन वॉर्ड भी भर चुका है। प्राइवेट अस्पताल भी डेंगू और तेज बुखार से पीड़ित मरीजों से भरे पड़े हैं। शहर के अलावा डेंगू और वायरल ग्रामीण इलाकों में तेजी से फैल रहा है। इसके चलते दवाओं की दुकानों पर फिर सुबह से शाम तक उसी तरह भीड़ दिखने लगी है, जैसी कोरोना काल में दिखती रही।

मुश्किल वक्त है! कोरोना, निपाह, डेंगू, रहस्यमय बुखार… एक साथ कई बीमारियों से लड़ रहा देश

1 बेड पर 2 मरीज: अफसरों के झूठ और ‘सुन्न’ पड़ी सरकार का कॉकटेल है फिरोजाबाद का ये हाल!

मंडलीय अस्पताल में रोज पहुंच रहे 300 मरीज
बीएचयू के पीडियाट्रिक्‍स विभाग के हेड प्रो. सुनील राव के अनुसार पिछले साल की तुलना में इस बार डेंगू के मामले बढ़े हैं। बड़ी संख्‍या में बच्‍चे बुखार से पीड़ित होकर अस्पताल आ रहे हैं। मंडलीय अस्पताल में बुखार से पीड़ित हर रोज करीब 300 मरीज पहुंच रहे हैं। इनमें से 30-40 को एडमिट भी किया जा रहा है। मंडलीय समेत अन्‍य सरकारी अस्‍पतालों में डेंगू वॉर्ड के सभी बेड फुल हैं।

Dengue Fever news: यूपी के बाद हरियाणा में भी कहर बरपा रहा डेंगू, इसका डी2 वेरिएंट बेहद है घातक, क्या लक्षण, कैसे इलाज… सब समझें
प्‍लेटलेट्स न मिलना जानलेवा
बीएचयू के ब्‍लड बैंक में सिंगल डोनर प्‍लेटलेट्स (एसडीपी) किट खत्‍म होने की वजह से सर सुंदरलाल अस्‍पताल में भर्ती 23 मरीजों की जान पर बन आई है। ब्‍लड बैंक के गेट पर एसडीपी किट न होने का नोटिस चस्‍पा कर दिया गया है। यह स्थिति तब है जब डेंगू मरीजों से एसडीपी के लिए 8,000 रुपये लिए जाते हैं। बीएचयू ब्‍लड बैंक के प्रभारी डॉ. संदीप कुमार ने बताया कि दो दिन पहले एसडीपी किट खत्‍म होने की सूचना चिकित्‍सा अधीक्षक कार्यालय को भेज दी गई थी। जैसे ही किट आ जाएगी, एसडीपी मिलने लगेगा। वहीं, इंडियन मेडिकल एसोसिएशन के ब्‍लड बैंक में भी डिमांड काफी बढ़ने से प्‍लेटलेट्स की कमी सामने आई है।

डिप्टी सीएम दिनेश शर्मा का बयान, डेंगू का प्रकोप बढ़ा तो बंद करेंगे यूपी के स्कूल

Viral fever death in Palwal: अब हरियाणा में भी डेंगू हुआ जानलेवा, पलवल में बुखार के 10 मरीजों की मौत! लोगों में दहशत
71 बार ब्‍लड देने वाले को ही नहीं मिला प्‍लेटलेट्स
डेंगू से पीड़ित बीएचयू ब्‍लड बैंक के इंचार्ज प्रोफेसर एसके सिंह को भी एसडीपी किट न होने की वजह से प्‍लेटलेट्स नहीं मिल सका। उनके जूनियर साथियों ने महामना कैंसर संस्‍थान से दो यूनिट प्‍लेटलेट्स की व्‍यवस्‍था कराई। प्रो. सिंह 60 साल की उम्र में 71 बार खून, प्‍लाज्‍मा, प्‍लेटलेट्स देकर रिकॉर्ड बना चुके हैं। कोरोना की पहली लहर में प्रो. सिंह ने बिना कैंप लगाए थैलीसिमिया पीड़ित 130 बच्‍चों को हर माह ब्‍लड उपलब्‍ध कराया था। वहीं, छात्रों, अस्‍पताल के कर्मचारियों की मदद से हीमोफीलिया और कैंसर के मरीजों के लिए खून की कमी नहीं होने दी थी। इसको लेकर देशभर में उनकी काफी प्रशंसा हुई, लेकिन जब उन्‍हें ही जरूरत पड़ती तो परिवारीजनों को ब्‍लड बैंक से निराश लौटना पड़ा।

UP Dengue Cases: यूपी के ज‍िलों में कहर बरपा रहा डेंगू का D2 स्ट्रेन, ICMR ने दी चेतावनी

कोरोना संग कहीं फ़ैल ना जाए डेंगू, घर-घर घंटी बजाकर महिलाएं कर रही जागरूक

लखनऊ: निजी लैब में तय होंगे डेंगू टेस्ट के रेट
डेंगू के मामले बढ़ने के बाद निजी लैबों में जांच के नाम पर मनमाना रेट लिया जा रहा है। कई लैब संचालक तो 1500 से 1800 रुपये वसूल रहे हैं। ऐसे कई मामले सामने आने पर स्वास्थ्य विभाग ने जांच के रेट तय करने के लिए डीएम को पत्र लिखा है। लखनऊ के सीएमओ डॉ. मनोज अग्रवाल ने बताया कि एलाइजा और प्लेटलेट्स सहित कई जांचों के दाम तय किए गए हैं। डीएम की मंजूरी मिलते ही सभी लैब को इस बारे में निर्देश जारी कर दिया जाएगा।

Dengue Fever Explainer: डेंगू से डरें मत! लक्षण, टेस्ट और बचाव, आपके लिए जरूरी सुझाव

नोएडा: डेंगू वॉर्ड में सर्जरी के मरीज भर्ती
बुखार, डेंगू, मलेरिया और टाइफाइड के मरीजों को भर्ती करने के लिए नोएडा के सेक्टर-30 स्थित जिला अस्पताल में अलग से 10 बेड का वॉर्ड बनाया गया है। स्थिति ये है कि अस्पताल प्रशासन ने डेंगू वॉर्ड में सर्जरी के मरीजों को भर्ती किया है। वहीं बुखार के मरीजों को बेड न होने की बात कहकर दवा देकर लौटाया जा रहा है। अस्पताल में पहली मंजिल पर 10 बेड का डेंगू वॉर्ड बनाया गया है। इस वॉर्ड में डेंगू का एक संभावित मरीज, बुखार के 3 और सर्जरी के दो मरीज भर्ती किए गए हैं। जबकि अस्पताल में आ रहे बुखार के अन्य मरीजों को दवा देकर भर्ती किया जा रहा है। अस्पताल में रोजाना करीब 350 मरीज बुखार के आ रहे हैं। वॉर्ड में बुखार के मरीजों को भर्ती न करके वहां पर अन्य मरीजों को भर्ती किया जा रहा है। अस्पताल की सीएमएस डॉ. सुषमा चंद्रा का कहना है कि बेड की कमी के चलते मरीजों को वहां भर्ती किया गया है। ठीक होने पर डिस्चार्ज हो जाएंगे।

फिरोजाबाद में मौत का कहर, क्या है अस्पतालों का हाल, ग्राउंड रिपोर्ट

Firozabad Dengue Cases: सरकारी आंकड़ों में फिरोजाबाद में डेंगू से सिर्फ 3 मौत! तो फिर बाकी मौतें कैसे हुई? प्रशासन की अजब दलील तो सुनिए
डेंगू के डंक से बचाने में जुटी ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी
डेंगू के प्रकोप को देखकर ग्रेटर नोएडा अथॉरिटी सतर्क हो गया है। अथॉरिटी मच्छर जनित रोगों पर नियंत्रण के लिए प्राधिकरण ने स्वास्थ्य विभाग, सभी सरकारी व निजी अस्पतालों को पत्र लिखकर उन मरीजों का ब्योरा शीघ्र उपलब्ध कराने को कहा है, जो कि मच्छर जनित रोगों से ग्रसित हैं। उन मरीजों के रिहायश के पते लेकर आसपास के एरिया में ग्रेटर नोएडा प्राधिकरण का जन स्वास्थ्य विभाग फॉगिंग व एंटी लार्वा दवा का छिड़काव करेगा।

आगरा में मिले डेंगू के 16 नए मरीज, घर-घर सर्वे शुरू करेगा स्वास्थ्य विभाग

जिले में संचारी रोग नियंत्रण के नोडल अफसर व प्राधिकरण के सीईओ नरेंद्र भूषण के निर्देश पर संचारी रोगों से रोकथाम के लिए अभियान चलाया जा रहा है। गांवों व सेक्टरों का शेड्यूल तय करके वहां फॉगिंग व एंटी लार्वा दवा का छिड़काव किया जा रहा है। सीईओ ने निर्देश दिया है कि अगर किसी गांव या सेक्टर से मरीज मिलते हैं तो वहां पर फॉगिंग व एंटी लार्वा के छिड़काव के लिए सघन अभियान चलाया जाए। प्राधिकरण के जनस्वास्थ्य विभाग के वरिष्ठ प्रबंधक सलिल यादव ने स्वास्थ्य विभाग, निजी व सरकारी अस्पताल को पत्र लिखकर डेंगू, चिकिनगुनिया व मलेरिया जैसी मच्छर जनित रोगों के मरीजों की सूची नियमित तौर पर उपलब्ध कराने को कहा है।

वायरल का कहर: सीएमओ के पैरों पर गिरकर मुखिया बोले- बच्चों को बचा लीजिए

Firozabad fever death: अलाइजा टेस्ट में देरी से डेंगू हुआ जानलेवा, जब तक किट्स आईं बिगड़ने लगे हालात, फिरोजाबाद में अब तक 111 की मौत
गाजियाबाद: डेंगू के 7 और स्क्रब टाइफस का एक और मरीज
गाजियाबाद जिले में शनिवार को डेंगू 7 नए मामले सामने आए हैं। इनमें से 2 मरीजों को अस्पताल में भर्ती किया गया है। इसके साथ ही स्क्रब टाइफस का भी एक नया मरीज अस्पताल में भर्ती हुआ है। जिसके बाद जिले में डेंगू के मरीजों की संख्या 76 और स्क्रब टाइफस के मरीजों की संख्या 25 हो गई है। शनिवार को मलेरिया का कोई नया मामला सामने नहीं आया।

%d bloggers like this: