Lok Shakti.in

Nationalism Always Empower People

भारत में औद्योगिक उत्पादन में वृद्धि से बढऩे वाला है निवेश


देश के औद्योगिक उत्पादन में जुलाई महीने में 11.5 प्रतिशत वृद्धि दर्ज की गई। इससे पहले, पिछले साल जुलाई में औद्योगिक उत्पादन में 10.5 प्रतिशत की गिरावट आयी थी। भारत में जल्द ही विदेशी निवेश की बारिश होने वाली है। भारत को जल्द ही ‘ग्लोबल बॉन्ड इंडेक्सÓ में शामिल किया जाएगा और ऐसा होने के बाद, भारत चुनिंदा देशों में शुमार हो जाएगा जहां के सरकारी बॉन्ड को दुनिया के बाजार में बेचा जा सके। इस सूचकांक में शामिल होने से भारत का ट्रेड डेफिसिट कम हो जाएगा और विदेशी निवेश आने लगेगा।
ग्लोबल बॉन्ड इंडेक्स क्या है?
अब आप सोच रहे होंगे कि ग्लोबल बॉन्ड इंडेक्स क्या है? इसको बस इतना समझिए कि यह एक मार्किट है, सेंसेक्स जैसा, जहां पर शेयर की जगह बांड बेचा जाता है। ग्लोबल बॉन्ड इंडेक्स में दुनिया भर के निवेश, ग्रेड और सरकारी बॉन्ड शामिल हैं जिनकी परिपक्वता एक वर्ष से अधिक है। यह सूचकांक वैश्विक सरकारों, सरकार से संबंधित एजेंसियों, कॉरपोरेट और एक वर्ष से अधिक की परिपक्वता अवधि वाले निश्चित आय वाले निवेश का बाजार है। जेपी मॉर्गन के प्रभावशाली त्रक्चढ्ढ-श्वरू (सरकारी बॉन्ड इंडेक्स – इमर्जिंग मार्केट्स) और ग्लोबल एग्रीगेट इंडेक्स में फरवरी 2022 से पहले भारत को शामिल करने की संभावना है।
अब जरा आंकड़ो से समझते है कि इस फैसले के क्या क्या फायदे होंगे? विश्व की बैंकिंग क्षेत्र में निर्णायक भूमिका में रहने वाली मॉर्गन स्टेनली ने बुधवार को एक नोट में कहा है कि भारत के अगले साल की शुरुआत में दुनिया के शीर्ष वैश्विक बॉन्ड सूचकांकों में शामिल होने की संभावना है। शामिल हो जाने के बाद यह अगले दशक में बांड के दम पर $170 बिलियन से $ 250 बिलियन को आकर्षित कर सकता है।
मॉर्गन स्टेनली ने कहा, “हमें उम्मीद है कि 2022/23 में इंडेक्स से 40 बिलियन डॉलर का भारत में आगमन होगा, इसके बाद अगले दशक में 18.5 बिलियन डॉलर का वार्षिक प्रवाह होगा, इसके कारण 2031 तक भारतीय बांड्स पर विदेशी स्वामित्व को 9त्न तक बढ़ा देगा।”
यह खबर इसलिए जरूरी है क्योंकि भारत के बॉन्ड्स को बाहरी जगत में नहीं खरीदा जाता था, आंकड़े बताते है कि भारत सरकार के बॉन्ड का विदेशी स्वामित्व 2018 से घटा चला आ रहा है और वर्तमान में यह 2त्न से कम है। मॉर्गन स्टेनली को उम्मीद है कि विदेशी निवेश में वृद्धि के साथ वित्त वर्ष 2029 में केंद्र सरकार का घाटा जीडीपी के 2.5त्न तक कम हो जाएगा और समेकित घाटा वित्त वर्ष 2029 तक जीडीपी के 5त्न तक पहुंच जाएगा, जो वित्त वर्ष 2021 में 14.4त्न था।
इस उपलब्धि को हासिल करने के बाद भारत का कद – वैश्विक स्तर पर इस उपलब्धि हासिल करने के बाद भारत का कद, बैंकिंग और निवेश के क्षेत्र में बड़ा हो जाएगा। भारत सरकार 2019 से ही वैश्विक बॉन्ड सूचकांकों में शामिल होने की दिशा में काम कर रहा है क्योंकि बढ़ती सरकारी उधारी और निवेश दरों को अधिक बढ़ाने की इच्छा ने घरेलू बॉन्ड बाजार को व्यापक निवेशक आधार के लिए खोलना आवश्यक कर दिया है। भारतीय बाजार में सरकारी बांड पर कम निवेश प्राप्त होता था।
सरकार मुद्रास्फीति को नियंत्रित करने के लिए जो बांड देती है, वो आड़े टेढ़े भाव पर दे देती थी, इसलिए यह समय की मांग थी कि भारत विदेशों के लिए भी द्वार खोले।

आरबीआई के नीतियों ने मजबूत आधार बनाने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाई है। मॉर्गन स्टेनली ने यह भी कहा कि भारतीय रिजर्व बैंक, भुगतान के बाद मजबूत संतुलन के कारण रुपये को मामूली रूप से बढऩे देगा। “हम मानते हैं कि उच्च वास्तविक दरों और रुपये की सराहना के कारण विदेशी बड़ी मात्रा में आईजीबी खरीदने के लिए आकर्षित हो सकते हैं।”

आरबीआई गवर्नर शक्तिकांत दास ने पिछले सप्ताह एक कार्यक्रम में कहा था कि केंद्रीय बैंक सरकारी प्रतिभूतियों के अंतरराष्ट्रीय निपटान और स्थानीय बॉन्ड को ग्लोबल बॉन्ड इंडेक्स में शामिल करने के लिए सरकार के साथ मिलकर काम कर रहा है। सामान्यत: यह देखा जाता है कि विश्व भर में बांड बेचने पर पैसा आता है तो देश की राष्ट्रीय मुद्रा में बदलाव हो जाता है जो आगे चलकर बांड के मैच्योरिटी पर प्रभाव डालता है। वैश्विक परिदृश्य में क्रक्चढ्ढ और केंद्रीय सरकार की इतनी मान्यता है कि यह मुद्रास्फीति को नियंत्रण रखेगा।

%d bloggers like this: