Lok Shakti.in

Nationalism Always Empower People

Noida coronavirus news: कोरोना मरीजों के परिवार परेशान… पूछ रहे होम आइसोलेशन वाले कहां से भरवाएं ऑक्सिजन सिलिंडर

Noida coronavirus news: कोरोना मरीजों के परिवार परेशान... पूछ रहे होम आइसोलेशन वाले कहां से भरवाएं ऑक्सिजन सिलिंडर

नोएडानोएडा में कोरोना का कहर जारी है। अस्पतालों में बेड नहीं मिल रहा और होम आइसोलेशन में ऑक्सिजन की कमी मरीजों के लिए जानलेवा साबित हो रही है। तमाम दावों के बावजूद घर में कोरोना से जंग लड़ रहे मरीजों के ऑक्सिजन सिलिंडर भरवाने को लेकर जिले में कोई ठोस सिस्टम नहीं बन पाया है। नोएडा अथॉरिटी आरडब्ल्यूए व एओए की ओर से चलाए जा रहे आइसोलेशन वॉर्ड में ऑक्सिजन उपलब्ध कराने के लिए आगे आई है लेकिन जो सिस्टम बनाया गया है वह मौजूदा जरूरत को पूरा नहीं कर पाएगा। होम आइसोलेशन में ऑक्सिजन पर निर्भर 90 फीसदी मरीजों की समस्या जस की तस बनी हुई है। उनके परिवार के लोग इधर उधर भटक रहे हैं और ठगी के शिकार हो रहे हैं।काफी कम जगहों पर बने आइसोलेशन सेंटरनोएडा अथॉरिटी आरडब्ल्यूए व एओए की ओर से प्राथमिक उपचार के लिए बनाए गए आइसोलेशन वॉर्ड में ऑक्सिजन उपलब्ध कराएगी। इसके लिए एओए व आरडब्ल्यूए अथॉरिटी को खाली सिलिंडर उपलब्ध कराना होगा। अथॉरिटी के प्रॉजेक्ट इंजीनियर मुकेश वैश्य ने बताया कि फिलहाल 30 एओए व आरडब्ल्यूए लिस्ट में शामिल हैं। इसके आगे जो-जो अपने यहां ऐसा सेंटर शुरू करेंगे उन्हें लिस्ट में शामिल कर लिया जाएगा। शहर में करीब 300 से ज्यादा आरडब्ल्यूए व एओए बनी हुई हैं। यह आंकड़ा सिर्फ नोएडा का है। जहां भी ऐसे सेंटर बने हैं वहां अधिकतम 5-10 बेड की व्यवस्था है जबकि हालात यह कि अधिकांश सोसायटी व सेक्टर में मरीजों की संख्या सैकड़ों में है। हर चौथे मरीज को ऑक्सिजन की जरूरत पड़ रही है।मरीजों की समस्या जस की तसफोनरवा के अध्यक्ष योगेंद्र शर्मा का कहना है हमारी कोशिश है हम करीब 50 आरडब्ल्यूए व एओए में आइसोलेशन वॉर्ड की व्यवस्था कराएं लेकिन ये सिर्फ प्राथमिक उपचार के लिए होंगे। यहां इमरजेंसी वाले मरीज की जिम्मेदारी नहीं ली जा सकती। कुछ घंटे या जरुरत के अनुसार एक-दो दिन के लिए यहां ऑक्सिजन पर निर्भर मरीज को रखा जा सकता है। यह सिस्टम सिर्फ मदद के लिए है। किसी मरीज को 10 दिन ऑक्सिजन की जरुरत है तो यहां पूरा नहीं किया जा सकता है।लोगों के लिए नहीं हो रही व्यवस्थाप्रशासन ने जिले की तीनों अथॉरिटी को ऑक्सिजन सिलिंडर रिफिल कराने के लिए नोडल अधिकारी बनाया है। अथॉरिटी इसके लिए पूरी जिम्मेदारी लेने से कतरा रही है। वहीं, गाजियाबाद के जिला प्रशासन ने भी इसके लिए रिफिल सेंटर का सिस्टम बनाया है। फरीदाबाद में गैस रिफिल की जरुरत को पूरा करने के लिए अलग से कंट्रोल रूम खोला गया है।Noida coronavirus news: कोरोना मरीजों के परिवार परेशान… पूछ रहे होम आइसोलेशन वाले कहां से भरवाएं ऑक्सिजन सिलिंडर