Lok Shakti.in

Nationalism Always Empower People

भदोही पुलिस ने 1857 की क्रांति का बिगुल फूंकने वाले झूरी सिंह के परिवार को कर दिया पाबंद, सदमे में परिजन

प्रतीकात्मक तस्वीर

अमर उजाला नेटवर्क, भदोही
Published by: गीतार्जुन गौतम
Updated Thu, 08 Apr 2021 09:38 PM IST

प्रतीकात्मक तस्वीर
– फोटो : अमर उजाला

ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

उत्तर प्रदेश के भदोही जनपद की पुलिस अपने कारनामों को लेकर अक्सर विवादों में रहती है। जिले की पुलिस फिर सुर्खियों में है। मामला पाबंदी से जुड़ा है। पुलिस ने 1857 की क्रांति का बिगुल फूंकने वाले भदोही जिले के शहीद झूरी सिंह के परिवार को शांतिभंग में पाबंद कर दिया है। पुलिस के इस रवैये से परिवार के लोग सदमे में हैं। त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव को लेकर कानून व्यवस्था के नाम पर शहीद झूरी सिंह के प्रपौत्र रामेश्वर सिंह को भदोही जिले के सुरियावां थाने की पुलिस ने शांतिभंग में पाबंद कर दिया है। इससे नाराजगी जताते हुए परिजनों ने इसकी शिकायत पुलिस अधीक्षक से की है। एसपी ने कहा कि मामला संज्ञान में है। जांच कराई जा रही है। जिले में 1857 में क्रांति का बिगुल फूंकने वाले भदोही जिले के शहीद झूरी सिंह के प्रपौत्र को पाबंद करने वाली पुलिस अब मामले की जांच-पड़ताल में जुट गई है। पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, भदोही जिले के सुरियावां थाने की पुलिस ने परऊपुर निवासी रामेश्वर सिंह को त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव को लेकर 107/16 की कार्रवाई करते हुए पाबंद किया है।रामेश्वर सिंह को अब तक सैकड़ों सम्मान पत्रों से सम्मानित किया जा चुका है। इनके परिवार का कोई भी सदस्य अभी तक कोई भी चुनाव नहीं लड़ा है और न ही किसी प्रत्याशी या फिर दल का समर्थन किया है। फिर भी भदोही जिले की सुरियावां पुलिस ने शहीद झूरी सिंह के प्रपौत्र रामेश्वर सिंह को पाबंद कर दिया है।
परिजनों का कहना है कि इन सब के बावजूद भदोही जिले की सुरियावां पुलिस ने रामेश्वर सिंह को पाबंद कर दिया है। रामेश्वर सिंह ने इस संबंध में भदोही के पुलिस अधीक्षक राम बदन सिंह से शिकायत की है। पुलिस अधीक्षक का कहना है कि मामला संज्ञान में है। जांच कराई जा रही है।

उत्तर प्रदेश के भदोही जनपद की पुलिस अपने कारनामों को लेकर अक्सर विवादों में रहती है। जिले की पुलिस फिर सुर्खियों में है। मामला पाबंदी से जुड़ा है। पुलिस ने 1857 की क्रांति का बिगुल फूंकने वाले भदोही जिले के शहीद झूरी सिंह के परिवार को शांतिभंग में पाबंद कर दिया है। पुलिस के इस रवैये से परिवार के लोग सदमे में हैं। 

त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव को लेकर कानून व्यवस्था के नाम पर शहीद झूरी सिंह के प्रपौत्र रामेश्वर सिंह को भदोही जिले के सुरियावां थाने की पुलिस ने शांतिभंग में पाबंद कर दिया है। इससे नाराजगी जताते हुए परिजनों ने इसकी शिकायत पुलिस अधीक्षक से की है। एसपी ने कहा कि मामला संज्ञान में है। जांच कराई जा रही है।

 जिले में 1857 में क्रांति का बिगुल फूंकने वाले भदोही जिले के शहीद झूरी सिंह के प्रपौत्र को पाबंद करने वाली पुलिस अब मामले की जांच-पड़ताल में जुट गई है। पुलिस सूत्रों से मिली जानकारी के अनुसार, भदोही जिले के सुरियावां थाने की पुलिस ने परऊपुर निवासी रामेश्वर सिंह को त्रिस्तरीय पंचायत चुनाव को लेकर 107/16 की कार्रवाई करते हुए पाबंद किया है।
रामेश्वर सिंह को अब तक सैकड़ों सम्मान पत्रों से सम्मानित किया जा चुका है। इनके परिवार का कोई भी सदस्य अभी तक कोई भी चुनाव नहीं लड़ा है और न ही किसी प्रत्याशी या फिर दल का समर्थन किया है। फिर भी भदोही जिले की सुरियावां पुलिस ने शहीद झूरी सिंह के प्रपौत्र रामेश्वर सिंह को पाबंद कर दिया है।

परिजनों का कहना है कि इन सब के बावजूद भदोही जिले की सुरियावां पुलिस ने रामेश्वर सिंह को पाबंद कर दिया है। रामेश्वर सिंह ने इस संबंध में भदोही के पुलिस अधीक्षक राम बदन सिंह से शिकायत की है। पुलिस अधीक्षक का कहना है कि मामला संज्ञान में है। जांच कराई जा रही है।