Lok Shakti.in

Nationalism Always Empower People

DME Reality Check: दिल्‍ली-मेरठ एक्‍सप्रेसवे पर 100 की स्‍पीड तो ठीक, पर बीच में लग रहा ब्रेक

DME Reality Check: दिल्‍ली-मेरठ एक्‍सप्रेसवे पर 100 की स्‍पीड तो ठीक, पर बीच में लग रहा ब्रेक

हाइलाइट्स:दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे को 1 अप्रैल को ट्रायल के लिए खोला गया हैलेकिन अभी चिपियाना बुजुर्ग के पास एक पुल का काम चल रहा हैयूपी गेट के पास किसानों का आंदोलन चल रहा है इससे जाम लगता हैइसकी वजह से यहां से गुजरने वाली गाड़‍ियों को परेशानी हो रही हैगाजियाबाददिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे को ट्रायल के लिए 1 अप्रैल से आम लोगों के लिए खोला गया है, लेकिन अभी चिपियाना बुजुर्ग के पास पुल का काम चल रहा है। यूपी गेट के पास किसानों का आंदोलन चल रहा है। इसकी वजह से वाहन चालकों को परेशानी हो रही है। एनबीटी रिपोर्टर ने यूपी गेट से लेकर मेरठ के परतापुर तक जाकर ट्रैफिक का जायजा लिया। 81 किमी का सफर 100 की स्पीड पर चलने पर अधिकतम 50 मिनट में पूरा होना चाहिए, लेकिन इस सफर को पूरा करने में अभी 60 से 65 मिनट लग रहे हैं। इस सफर में क्या-क्या परेशानियां आईं, पेश है एक रिपोर्ट।यूपी गेट से डासना के बीच 2 बार लगते हैं ब्रेकनिजामुद्दीन से 100 की स्पीड पर आप अपनी कार लेकर चलते हैं तो यूपी गेट तक कोई रुकावट नहीं मिलेगी, लेकिन यहां किसान आंदोलन होने की वजह से ट्रैफिक डायवर्ट किया गया है। इसकी वजह से वाहनों की स्पीड काफी धीमी हो जाती है। पीक आवर में जाम की भी नौबत आ जाती है। अभी ट्रायल है, जहां पर भी कमी दिख रही है, उसे दूर किया जा रहा है। चिपियाना बुजुर्ग के रेलवे पुल का निर्माण साल के अंत तक हो सकेगा। इसके अलावा पूरे रूट में किसी भी प्रकार की कोई दिक्कत नहीं है। विजयनगर एफओबी के लिए अभी कोई फैसला नहीं लिया गया है।मुदित गर्ग, प्रॉजेक्ट डायरेक्टर, एनएचएआईफिर यहां से निकलने के बाद वाहन स्पीड पकड़ता है तो चिपियाना बुजुर्ग के पास निर्माणाधीन पुल की वजह से स्पीड कम हो जाती है। रॉन्ग साइड से आने की वजह से कभी-कभी जाम की नौबत पैदा हो जाती है। वहीं, यदि आप डासना से यूपी गेट की तरफ जा रहे है तो सिद्धार्थ विहार के पास पुलिस ने एक्सप्रेसवे को बंद कर दिया है। यहां से ट्रैफिक एनएच-9 पकड़कर यूपी गेट तक जाता है। इस हिस्से में जितने भी एफओबी बनाए गए हैं, अभी अधिकांश में लिफ्ट लगाए जाने का काम चल रहा है।दिल्ली-मेरठ एक्सप्रेसवे पर 81 किलोमीटर की दूरी 70 मिनट में हुई पूरीडासना से परतापुर के बीच नहीं है ज्यादा दिक्कतडासना फ्लाईओवर पर चढ़ने के साथ तेजी से ट्रैफिक मेरठ की तरफ बढ़ता है। इस रूट पर ड्रेनेज सिस्टम के लिए पाइप लगाए जाने का काम चल रहा है, लेकिन इससे ट्रैफिक प्रभावित नहीं हो रहा है। इस हिस्से में मोदीनगर से आगे निकलने के बाद रेलवे लाइन निकालने के लिए काम चल रहा है। इसकी वजह से यहां करीब 3 किमी का ट्रैफिक डायवर्ट किया गया है, लेकिन इससे भी वाहनों की स्पीड पर कोई खास फर्क नहीं पड़ रहा। काशीपुर टोल प्लाजा के पास अभी टोल का ट्रायल चल रहा है। इसकी वजह से वाहनों की लाइन लग रही है। एनएचएआई के अधिकारियों का कहना है कि फास्टैग से जब टोल का गेट खुलने लगेगा तो यहां पर जाम खत्म हो जाएगा।विजयनगर के पास फ्लाईओवर की जरूरतसफर के दौरान देखने को मिला कि विजयनगर के पास बसावट अधिक है, लेकिन वहां पर एक भी एफओबी फुटओवर ब्रिज नहीं बनाया गया है। जिसकी वजह से लोग अंडरपास का प्रयोग न करके एनएच-9 और डीएमई के बैरियर को कूदकर पार करते नजर आए। जिसकी वजह से किसी भी दिन बड़ा हादसा हो सकता है। यहां पर लंबे समय से एफओबी बनाए जाने की मांग चल रही है। लेकिन अभी तक यह नहीं बना सका।देश का सबसे चौड़ा एक्सप्रेसवे मेरठ-दिल्ली के बीच, जानें और क्या है खासचल रहे हैं छोटे-छोटे कामयूपी गेट से डासना के बीच अभी डीएमई और एनएच-9 को अलग करने वाले बैरियर लगाए जाने का काम चल रहा है। कुछ जगह पर रंग-रोगन किए जाने का भी काम चल रहा है। अधिकारियों का कहना है कि प्रॉजेक्ट के उद्घाटन के बाद सब कुछ सही कर लिया जाएगा।यह है प्रॉजेक्ट का इन्फ्रास्ट्रक्चर- 24 छोटे और बड़े पुल- 10 फ्लाईओवर- 3 रेलवे पुल- 95 अंडरपास- 15 भूमिगत पैदल पार पथ- 12 फुट ओवर ब्रिज- 4500 लाइटें लगाई गईफैक्ट फाइल- लागत 8346 करोड़- कुल लंबाई-82 किमीदिल्ली से मेरठ जाने वाले के लिए ऐंट्री गेटसराय काले खां, अक्षरधाम मंदिर, इंदिरापुरम, डूडाहेड़ा, डासना, ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे, भोजपुरमेरठ से दिल्ली जाने वाले के लिए ऐंट्री गेटभोजपुर, ईस्टर्न पेरिफेरल एक्सप्रेसवे, डासना, डूड़ाहेड़ा, नोएडा, सराय काले खां पर निकास द्वारसांकेतिक तस्‍वीर