Lok Shakti.in

Nationalism Always Empower People

पोषण अभियान को जन-आंदोलन बनाने की आवश्यकता हैः स्वाति मीणा

पोषण अभियान को जन-आंदोलन बनाने की आवश्यकता हैः स्वाति मीणा


पोषण अभियान को जन-आंदोलन बनाने की आवश्यकता हैः स्वाति मीणा


भोजन में प्रोटीन को शामिल करना बहुत जरूरी हैः अमिता सिंह “वर्तमान समय और पोषण अभियान का महत्व” विषय पर वेबिनार आयोजित 


भोपाल : बुधवार, अप्रैल 7, 2021, 14:06 IST

पोषण अभियान को जन-आंदोलन बनाने की आवश्यकता है। इस अभियान से अधिक से अधिक लोगों को जोड़ने की जरूरत है ताकि इससे संबंधित भ्रांतियों को दूर किया जा सके। कुपोषण की समस्या को दूर करने के लिए शासन की योजनाओं के साथ समाज का सहयोग भी बहुत जरूरी है। संचालक, महिला एवं बाल विकास सुश्री स्वाति मीणा ने यह बात पीआईबी और आरओबी भोपाल द्वारा मंगलवार को ‘वर्तमान समय और पोषण अभियान का महत्व’ विषय पर आयोजित वेबिनार में कही।सुश्री मीणा ने कहा कि पोषण अभियान में मिशन मोड पर काम हो रहा है और इसके परिणाम भी दिखने लगे हैं। अभियान में डेटा मैनेजमेंट, पोषण ट्रैकर के माध्यम से सारा डेटा सिस्टम में एकत्रित किया जा रहा है। इसके आधार पर कमियों को चिन्हित कर उनके सुधार के कार्य किये जा रहे हैं। सुश्री मीणा ने कहा कि कुपोषण का मुद्दा सामाजिक, आर्थिक और लैंगिंक समानता से भी जुड़ा है। समाज में महिलाओं को सही पोषण देना अब भी प्राथमिकता में नहीं है।वेबिनार में आहार विशेषज्ञ सुश्री अमिता सिंह ने कहा कि आमतौर पर हमारे आहार में प्रोटीन की काफी कमी देखी जाती है। हमें खाने में दालों को शामिल करने की जरूरत है। दूध भी दिन में दो बार किसी न किसी रूप में लेना चाहिए। उन्होंने कहा कि खाने में विटामिन सी के साथ मौसमी सब्जियों को भी जरूर शामिल करें। उन्होंने कोरोना काल में आहार विषय पर भी विविध जानकारी दी।अपर महानिदेशक पीआईबी, भोपाल श्री प्रशांत पाठराबे ने कहा कि अच्छे स्वास्थ्य का आधार पोषण है। यह संतुलित वृद्धि को बढ़ावा देता है। उन्होंने कहा कि पोषण अभियान का बहुत बड़ा महत्व है, क्योंकि इसके तहत 60 प्रतिशत से अधिक आबादी महिला एवं बच्चों को कवर किया जाता है। उन्होंने कहा कि कोरोना काल में अच्छे पोषक आहार की महत्ता और बढ़ गई है।डॉ. समीर पवार, पोषण विशेषज्ञ यूनिसेफ ने कहा कि बच्चे के विकास के लिए शुरुआती 1000 दिन बहुत ही महत्वपूर्ण हैं। इस समय में बच्चे की वृद्धि और विकास की गति सबसे तेज होती है। इसी अवधि में मस्तिष्क का सबसे ज्यादा विकास होता है। यूनिसेफ के संचार विशेषज्ञ श्री अनिल गुलाटी ने कहा कि पोषण से संबंधित जानकारियों को जमीनी स्तर तक पहुँचाने में संचार माध्यमों का काफी महत्वपूर्ण योगदान है। उन्होंने पोषण से संबंधित फेक मैसेज पर लगाम लगाने की भी जरूरत बताई।उप निदेशक, पीआईबी श्री एम.वी.कृष्णा प्रसाद ने पोषण अभियान के बारे में प्रकाश डाला। पीआईबी के निदेशक श्री अखिल नामदेव ने धन्यवाद ज्ञापन किया और मीडिया एवं संचार अधिकारी श्री प्रेम चन्द्र गुप्ता ने कार्यक्रम का संचालन किया।


राजेश पाण्डेय