Lok Shakti.in

Nationalism Always Empower People

सीएम योगी आदित्यनाथ शुक्रवार को आएंगे वाराणसी, कोरोना संक्रमण रोकने की तैयारियों की करेंगे समीक्षा बैठक

सीएम योगी अदित्यनाथ।

न्यूज डेस्क, अमर उजाला, वाराणसी
Published by: गीतार्जुन गौतम
Updated Thu, 08 Apr 2021 12:11 AM IST

सीएम योगी अदित्यनाथ।
– फोटो : अमर उजाला।

ख़बर सुनें

ख़बर सुनें

वाराणसी में तेजी से बढ़ रहे कोरोना संक्रमण को थामने के लिए प्रशासनिक तैयारियों की समीक्षा के लिए शुक्रवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ वाराणसी आएंगे। बुधवार की देर रात मुख्यमंत्री कार्यालय से सूचना जारी होने के बाद प्रशासनिक महकमा तैयारियों में जुट गया है।होली के बाद वाराणसी में अचानक कोरोना मरीजों की संख्या में इजाफा हो गया है और दूसरी लहर में पिछले सभी रिकार्ड भी ध्वस्त हो गए हैं। पिछले 7 दिन में 2697 नए मामले सामने आ चुके हैं। इसमें बुधवार को कुल 519 मरीज मिले हैं। तेजी से बढ़ रहे मरीजों की संख्या को देखते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ वाराणसी में तैयारियों की समीक्षा के लिए आएंगे।प्रशासन, पुलिस और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों संग समीक्षा
शुक्रवार को दोपहर में वे सीधे बीएचयू पहुंचेंगे और करीब दो घंटे के प्रवास में प्रशासन, पुलिस और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ समीक्षा करेंगे। माना जा रहा है कि मुख्यमंत्री के आगमन के बाद वाराणसी में लागू किए गए प्रतिबंधों का कड़ाई से पालन के साथ इसमें इजाफा भी किया जा सकता है। बता दें कि कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ने के बाद से वाराणसी जिले में एल-1, एल-2 और एल-3 अस्पताल फिर से शुरू कर दिए गए हैं और नगर निगम के स्मार्ट कोविड कमांड कंट्रोल रूम को फिर से सुचारु कर दिया गया है।नाइट कर्फ्यू की घोषणाकोरोना के बढ़ते संक्रमण को रोकने के लिए जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने नाइट कर्फ्यू की घोषणा कर दी है। अगले एक सप्ताह के लिए सभी स्कूल, कॉलेज और महाविद्यालय बंद कर दिए गए हैं। रात नौ बजे के बाद घर से निकलने पर पूरी तरह रोक लगाई गई है। घाटों पर होने वाली आरती में अब आमलोग शामिल नहीं हो पाएंगे। राजनीतिक, सामाजिक और अन्य कार्यक्रमों पर भी पूरी तरह रोक लगा दी गई है। यह आदेश आठ अप्रैल से प्रभावी हो जाएगा।जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने बताया कि बृृहस्पतिवार की रात 9 बजे से सुबह तक नाइट कर्फ्यू लगाया जाएगा। सुबह का समय अधिकारियों के साथ बैठक कर तय किया जाएगा। चिकित्सा, नर्सिंग एवं पैरा मेडिकल संस्थानों को छोड़ कर सभी सरकारी, गैर सरकारी, निजी विद्यालय, महाविद्यालय, शैक्षणिक संस्थान और कोचिंग संस्थान बंद रहेंगे। केवल परीक्षा और प्रैक्टिकल परीक्षा के समय में विद्यालय या महाविद्यालय खोलने की छूट होगी। 

वाराणसी में तेजी से बढ़ रहे कोरोना संक्रमण को थामने के लिए प्रशासनिक तैयारियों की समीक्षा के लिए शुक्रवार को मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ वाराणसी आएंगे। बुधवार की देर रात मुख्यमंत्री कार्यालय से सूचना जारी होने के बाद प्रशासनिक महकमा तैयारियों में जुट गया है।

होली के बाद वाराणसी में अचानक कोरोना मरीजों की संख्या में इजाफा हो गया है और दूसरी लहर में पिछले सभी रिकार्ड भी ध्वस्त हो गए हैं। पिछले 7 दिन में 2697 नए मामले सामने आ चुके हैं। इसमें बुधवार को कुल 519 मरीज मिले हैं। तेजी से बढ़ रहे मरीजों की संख्या को देखते हुए मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ वाराणसी में तैयारियों की समीक्षा के लिए आएंगे।

प्रशासन, पुलिस और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों संग समीक्षा

शुक्रवार को दोपहर में वे सीधे बीएचयू पहुंचेंगे और करीब दो घंटे के प्रवास में प्रशासन, पुलिस और स्वास्थ्य विभाग के अधिकारियों के साथ समीक्षा करेंगे। माना जा रहा है कि मुख्यमंत्री के आगमन के बाद वाराणसी में लागू किए गए प्रतिबंधों का कड़ाई से पालन के साथ इसमें इजाफा भी किया जा सकता है। बता दें कि कोरोना मरीजों की संख्या बढ़ने के बाद से वाराणसी जिले में एल-1, एल-2 और एल-3 अस्पताल फिर से शुरू कर दिए गए हैं और नगर निगम के स्मार्ट कोविड कमांड कंट्रोल रूम को फिर से सुचारु कर दिया गया है।नाइट कर्फ्यू की घोषणाकोरोना के बढ़ते संक्रमण को रोकने के लिए जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने नाइट कर्फ्यू की घोषणा कर दी है। अगले एक सप्ताह के लिए सभी स्कूल, कॉलेज और महाविद्यालय बंद कर दिए गए हैं। रात नौ बजे के बाद घर से निकलने पर पूरी तरह रोक लगाई गई है। घाटों पर होने वाली आरती में अब आमलोग शामिल नहीं हो पाएंगे। राजनीतिक, सामाजिक और अन्य कार्यक्रमों पर भी पूरी तरह रोक लगा दी गई है। यह आदेश आठ अप्रैल से प्रभावी हो जाएगा।जिलाधिकारी कौशल राज शर्मा ने बताया कि बृृहस्पतिवार की रात 9 बजे से सुबह तक नाइट कर्फ्यू लगाया जाएगा। सुबह का समय अधिकारियों के साथ बैठक कर तय किया जाएगा। चिकित्सा, नर्सिंग एवं पैरा मेडिकल संस्थानों को छोड़ कर सभी सरकारी, गैर सरकारी, निजी विद्यालय, महाविद्यालय, शैक्षणिक संस्थान और कोचिंग संस्थान बंद रहेंगे। केवल परीक्षा और प्रैक्टिकल परीक्षा के समय में विद्यालय या महाविद्यालय खोलने की छूट होगी।