Lok Shakti.in

Nationalism Always Empower People

Noida coronavirus news: दिल्ली में नाइट कर्फ्यू से नोएडा वाालों की उड़ी नींद, 28 सोसायटी बनीं कंटेनमेंट जोन

Noida coronavirus news: दिल्ली में नाइट कर्फ्यू से नोएडा वाालों की उड़ी नींद, 28 सोसायटी बनीं कंटेनमेंट जोन

हाइलाइट्स:दिल्ली में नाइट कर्फ्यू से नोएडा वालों की नींद उड़ गई है, नौकरी, बिजनेस और अन्य काम के सिलसिले में बड़ी संख्या में लोगों का आना-जाना हैअब फिर से लोगों को ई-पास और पाबंदियों को लेकर चिंता सताने लगी है, देखना यह है कि जिला प्रशासन इसको लेकर क्या कदम उठाता हैक्या नोएडा से पास जारी किए जाएंगे या उन्हें दिल्ली प्रशासन की ओर से जारी पास पर यात्रा करनी होगी, इसको लेकर संशय की स्थिति हैअम्बरीश त्रिपाठी, नोएडादिल्ली में नाइट कर्फ्यू से नोएडा वालों की नींद उड़ गई है। नौकरी, बिजनेस और अन्य काम के सिलसिले में बड़ी संख्या में लोगों का आना-जाना है। अब फिर से लोगों को ई-पास और पाबंदियों को लेकर चिंता सताने लगी है। अब देखना यह है कि जिला प्रशासन इसको लेकर क्या कदम उठाता है। क्या नोएडा से पास जारी किए जाएंगे या उन्हें दिल्ली प्रशासन की ओर से जारी पास पर यात्रा करनी होगी। इसको लेकर लोगों के मन में संशय की स्थितियां बन रही हैं।ई पास को लेकर है कन्फ्यूजनसेक्टर- 34 अरावली अपार्टमेंट में रहने वाले भूपेंद्र पारीक की मां का इलाज जयपुर में चल रहा है। उनका कहना है कि अक्सर नोएडा से जयपुर आना-जाना पड़ता है। परिवार के लोग ही उन्हें स्टेशन पर छोड़ने जाते हैं। अब दिल्ली में नाइट कर्फ्यू लगने के बाद बिना ई- पास के वापसी में समस्या होगी। अभी ई-पास को लेकर भी कन्फ्यूजन है।नोएडा में एक से ज्यादा संक्रमित तो पूरी बिल्डिंग बनेगी कंटेनमेंट जोन, जान लें इस बार क्‍या हैं नियमनाइट कर्फ्यू से बढ़ेगी परेशानीसेक्टर- 93 पार्श्वनाथ प्रेस्टीज में रहने वाले रजनीश नंदन मल्टीनेशनल कंपनी में जीएम हैं। उनका कहना है कि उन्हें एनसीआर के शहरों से लेट नाइट आना जाना होता है। दिल्ली में नाइट कर्फ्यू से अब ई-पास के लिए परेशान होना पड़ेगा। नाइट कर्फ्यू औचित्यहीन है। अगर कोई अपनी गाड़ी से यात्रा कर रहा है तो उसमें कोरोना कहां से फैलेगा? ऑफिस से आने में होती है देरसेक्टर- 78 हाइड पार्क सोसायटी मे रहने वाले राजेश कुमार सिंह बिजनेसमैन हैं। उनका ऑफिस दिल्ली में है। उन्होंने बताया कि अक्सर ऑफिस से निकलने में देर हो जाती है। ऐसे में जाम के कारण उन्हें नोएडा पहुंचने में 2 से ढाई घंटे लगते हैं। नाइट कर्फ्यू का समय रात 11 बजे से करना चाहिए। अब फिर पास की टेंशन शुरू हो गई है।सोसायटियों में संक्रमण, 28 कंटेनमेंट जोन घाषितजिले में कोरोना का वायरस एक बार फिर तेजी से फैल रहा है। खासकर ग्रेनो वेस्ट की सोसायटियों में। यहां संक्रमण के मामले तेजी से सामने आ रहे हैं। इसकी वजह से जिले में हॉटस्पॉट और कंटेनमेंट जोन की संख्या अब 28 हो गई है। नए संक्रमित मिलने के बाद एसडीएम ने सोमवार को इन जगहों को कंटेनमेंट जोन घोषित कर दिया। ज्यादातर नए कंटेनमेंट जोन बिसरख ब्लॉक के ही अंतर्गत आते हैं। कंटेनमेंट जोन में किसी को परेशानी न हो इसके लिए एक टीम लगाई गई है। संबंधित अधिकारियों का कहना है कोरोना के प्रसार को रोकने के लिए सभी प्रभावी कदम उठाए जा रहे हैं।जिले में कोरोना के जहां सबसे अधिक केस हैं उनमें गौर सिटी और महागुन माइवुड्स शामिल हैं। जिले के अन्य भागों में भी कोरोना तेजी से पैर पसारने लगा है। ग्रेनो वेस्ट के गौर सिटी में कई लोग कोरोना की चपेट में हैं। दादरी के जलपुरा गांव में भी कोरोना के मरीज मिले हैं। ग्रेनो स्थित महागुन माइवुड्स के रेडवुड, हेजलवुड सहित अन्य टावर में कोरोना के मरीज मिल रहे हैं। चिपियाना बुजुर्ग, शाहबेरी, पाम ओलंपिया में भी संक्रमण के केस मिलने से लोगों में डर है।ग्रामीण क्षेत्रों के लिए भी दिशा-निर्देशग्रामीण क्षेत्रों में कोरोना के बढ़ते प्रकोप को रोकने के लिए जिला प्रशासन की ओर से कई दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं। अब अगर किसी गांव में कोरोना का केस मिलता है तो उसके आसपास के इलाके को कंटेनमेंट जोन बनाया जाएगा। एक से अधिक केस होने पर आसपास का इलाका बफर जोन घोषित कर दिया जाएगा।सांकेतिक तस्‍वीर